Home » Indian Festivals » अचलेश्वर मेला, बटाला, पंजाब
अचलेश्वर मेला, बटाला, पंजाब

अचलेश्वर मेला, बटाला, पंजाब

बटाला से 7 कि.मी. दूर जालन्धर रोड पर श्री कार्तिक स्वामी का श्री अचलेश्वर महादेव तीर्थ है। हर वर्ष दीपावली के 9 दिन बाद यहां मेला लगता है। इस बार यह 20-21 नवम्बर को है। प्रचलित कथाओं के अनुसार भगवान शंकर जी व मां पार्वती ने अपने पुत्रों कार्तिक जी व गणेश जी का बुद्धि परीक्षण कर श्रेष्ठ को अपना उत्तराधिकारी बनाने का निर्णय लिया।

भोलेनाथ जी ने दोनों से कहा कि जो भी तीनों लोकों की परिक्रमा करके पहले कैलाश पहुंचेगा, उसे वह उत्तराधिकारी बनाएंगे। कार्तिक जी मयूर पर सवार होकर कुछ क्षणों में ही आंखों से ओझल हो गए जबकि गणेश जी अपने वाहन चूहे पर सवार होकर निकले।  थोड़ी दूर नारद जी से भेंट हो गई जिन्होंने कहा कि भगवान तो स्वयं तीनों लोकों के मालिक हैं जिनकी परिक्रमा करने से ही तीनों लोकों का भ्रमण हो जाता है। उनकी बात सुनकर गणेश जी उसी समय कैलाश पहुंचे और अपने माता-पिता की परिक्रमा कर हाथ जोड़ खड़े हो गए। भगवान शिव ने गणेश जी की बुद्धि से प्रभावित होकर उन्हें अपना उत्तराधिकारी घोषित कर दिया।

दूसरी ओर कार्तिक जी आकाश मार्ग से इस पवित्र स्थान के ऊपर से जा रहे थे तो नारद जी ने उन्हें कैलाश का समाचार सुनाया जिसे सुनकर वह बहुत दु:खी हुए। उसी समय कैलाश न जाने का प्रण किया और धरती पर उतरकर तपस्या करने लगे। यही स्थान आजकल श्री अचलेश्वर महादेव तीर्थ के नाम से प्रसिद्ध है। कार्तिक जी के फैसले की जानकारी नारद जी ने कैलाश पहुंचकर भगवान भोलेनाथ को दी तो स्वयं भगवान शंकर और मां पार्वती 33 करोड़ देवी-देवताओं को साथ लेकर कार्तिक जी को मनाने यहां पधारे परन्तु कार्तिक जी ने जब कैलाश न जाकर यहीं अचल रहने का निर्णय सुनाया तो भगवान शिव ने उन्हें अचलेश्वर महादेव का नाम देकर नौवीं का अधिकारी घोषित कर वरदान दिया कि यहां नौवीं का पर्व मनाया जाएगा और जो भी श्रद्धालु लगातार 40 दिन पवित्र सरोवर में स्नान कर सच्चे मन से पूजा अर्चना करेगा, उसकी हर इच्छा पूर्ण होगी।

कलियुग में इसी स्थान की शोभा सुन पहली पातशाही साहिब श्री गुरु नानक देव जी यहां पधारे। प्राचीन विशाल सरोवर के बीचों-बीच गंगाधारी भगवान शंकर का विशाल मंदिर, किनारे पर कार्तिक जी का प्राचीन एवं ऐतिहासिक मंदिर और दूसरी तरफ विशाल गुरुद्वारा देश के आपसी प्यार व भाईचारे की महान संस्कृति को दर्शाते हैं।

Check Also

आरसी प्रसाद सिंह जी की प्रेम कविता - चाँद को देखो

आरसी प्रसाद सिंह जी की प्रेम कविता – चाँद को देखो

चाँद को देखो चकोरी के नयन से माप चाहे जो धरा की हो गगन से। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *