Home » Poems For Kids » Poems In Hindi (page 5)

Poems In Hindi

बच्चों की हिन्दी कविताएं — 4to40 का हिन्दी कविताओ का संग्रह | Hindi Poems for Kids — A collection of Hindi poems for children. पढ़िए कुछ मजेदार, चुलबुली, नन्ही और बड़ी हिंदी कविताएँ. इस संग्रह में आप को बच्चो और बड़ो के लिए ढेर सारी कविताएँ मिलेंगी.

दिवाली रोज़ मनाएं: संदीप फाफरिया ‘सृजन’

दिवाली रोज़ मनाएं - संदीप फाफरिया ‘सृजन’

दिवाली रोज मनाएं फूलझड़ी फूल बिखेरे चकरी चक्कर खाए अनार उछला आसमान तक रस्सी-बम धमकाए सांप की गोली हो गई लम्बी रेल धागे पर दौड़ लगाए आग लगाओ रॉकेट को तो वो दुनिया नाप आए टिकड़ी के संग छोटे-मोटे बम बच्चों को भाए ऐसा लगता है दिवाली हम तुम रोज मनाएं। ∼ संदीप फाफरिया ‘सृजन’

Read More »

दीवाली आने वाली है: राजीव कृष्ण सक्सेना

दीवाली आने वाली है - राजीव कृष्ण सक्सेना

मानसून काफूर हो गया रावण का भी दहन हो गया ठंडी–ठंडी हवा चली है मतवाली अब गली–गली है पापा, मम्मी, भैय्या, भाभी बूआ, चाचा, दादा, दादी राह सभी तकते हैं मिल कर हर मन को भाने वाली है दीवाली आने वाली है चॉकलेट को छोड़ो भाई देसी है दमदार मिठाई लड्डू, पेड़ा, कलाकंद है बरफी दानेदार नरम है गरम जलेबी, …

Read More »

दीप जलाओ दीप जलाओ आज दिवाली रे

Diwali Festival Hindi Bal Kavita दीप जलाओ दीप जलाओ आज दिवाली रे

दीप जलाओ, दीप जलाओ, आज दिवाली रे, खुशी-खुशी सब हंसते आओ, आज दिवाली रे। मैं तो लूंगा खेल-खिलौने, तुम भी लेना भाई, नाचो, गाओ, खुशी मनाओ, आज दिवाली आई। आज पटाखे खूब चलाओ, आज दिवाली रे, दीप जलाओ, दीप जलाओ, आज दिवाली रे। नए-नए मैं कपड़े पहनूं, खाऊं खूब मिठाई, हाथ जोड़कर पूजा कर लूं आज दिवाली आई। खाओ मित्रों, …

Read More »

मंगल दीप दिवाली: गौरव ग्रोवर

Motivational Hindi Poem about Diwali Festival मंगल दीप दिवाली

वह मंगल दीप दिवाली थी, दीपों से जगमग थाली थी। कोई दिये जला कर तोड़ गया, आशा की किरन को रोक गया॥ इस बार न ये हो पाएगा, अँधियारा ना टिक पाएगा। कर ले कोशिश कोई लाख मगर, कोई दिया न बुझने पाएगा॥ जब रात के बारह बजते हैं, सब लक्ष्मी पूजा करते हैं। रात की कालिमा के लिए, दीपों …

Read More »

रूप के बादल: गोपी कृष्ण ‘गोपेश’

roop-ke-badal-gopi-krishna-gopesh

रूप के बादल यहाँ बरसे, कि यह मन हो गया गीला! चाँद–बदली में छिपा तो बहुत भाया ज्यों किसी को फिर किसी का ख्याल आया और, पेड़ों की सघन–छाया हुई काली और, साँस काँपी, प्यार के डर से रूप के बादल यहाँ बरसे… सामने का ताल, जैसे खो गया है दर्द को यह क्या अचानक हो गया है? विहग ने …

Read More »

गोरा – बादल: पंडित नरेंद्र मिश्र

Padmavati: Songs, Trailer, Movie Review

दोहराता हूँ सुनो रक्त से लिखी हुई क़ुरबानी। जिसके कारन मिट्टी भी चन्दन है राजस्थानी।। रावल रत्न सिंह को छल से कैद किया खिलजी ने काल गई मित्रों से मिलकर दाग किया खिलजी ने खिलजी का चित्तोड़ दुर्ग में एक संदेशा आया जिसको सुनकर शक्ति शौर्य पर फिर अँधियारा छाया दस दिन के भीतर न पद्मिनी का डोला यदि आया …

Read More »

रामचन्द्रजी की आरती Shri Ram Aarti

Sri Ram Aarti

Lord Rama is the seventh incarnation of Lord Vishnu and had taken birth on earth to put an end to the forces of evil of the age. He is a symbol of chivalry and virtue and in the words of Swami Vivekananda, he is “the embodiment of truth, of morality, the ideal son, the ideal husband, and above all, the …

Read More »

आरती श्री गणेश जी की

Lord Ganesha Aarti in Hindi आरती श्री गणेश जी की

जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा। माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा॥ जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा। माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा॥ एक दंत दयावन्त, चार भुजा धारी। मस्तक सिन्दूर सोहे, मुसे की सवारी॥ जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा। माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा॥ पान चढ़े फूल चढ़े, और चढ़े मेवा। लड्डूअन का भोग लगे, सन्त करे …

Read More »

जय आद्य शक्ति माँ आरती Jaya Aadya Shakti Ma Aarti

Jaya Aadya Shakti Ma Aarti

Puja is an important ritual in Hindu culture. It marks the beginning as well as the culmination of many customs. Pooja finds prominence in various Hindu festivals, such as Durga Pooja, Diwali, Dussehra etc. The ritual is regarded as the most convincing way to invoke a deity and seek his/her blessings. This is the reason why special arrangements are made …

Read More »

ओम जय जगदीश हरे: आरती विष्णुजी की

ओम जय जगदीश हरे - आरती विष्णुजी की

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे। भक्त जनों के संकट, क्षण में दूर करे॥ ॐ जय… जो ध्यावे फल पावे, दुःख बिनसे मन का। सुख-सम्पति घर आवे, कष्ट मिटे तन का॥ ॐ जय… मात पिता तुम मेरे, शरण गहूँ मैं किसकी। तुम बिन और न दूजा, आस करूँ मैं जिसकी॥ ॐ जय… तुम पूरण परमात्मा, तुम अंतर्यामी। पारब्रह्म परमेश्वर, तुम सब …

Read More »