Home » Folktales For Kids

Folktales For Kids

श्री गणेश जी: सर्वप्रथम उनकी पूजा – आखिर क्यों!

श्री गणेश जी: सर्वप्रथम उनकी पूजा - आखिर क्यों!

‘यज्ञ, पूजन, हवनादि के समय पहले किस देवता की पूजा की जाय?’ देवताओं में ही इस प्रश्न पर मतभेद हो गया था। सभी चाहते थे कि यह सम्मान मुझे मिले। जब आपस में कोई निपटारा न हो सका, तब सब मिलकर ब्रह्माजी के पास गये; क्योकि सबके पिता – पितामह तो ब्रह्माजी ही हैं और सत्पुरुष बड़े – बूढों की …

Read More »

गणेश जन्म: हिंदी पौराणिक कथा

गणेश जन्म: हिंदी पौराणिक कथा

एक बार भगवती पार्वती स्नान कर रही थीं। उसी समय भगवन शिव वहाँ पहुँच गये। पार्वतीजी उन्हें देखकर लजा गयीं। अपनी प्रिय सखी जया – विजया के कहने पर उन्होनें अपने शरीर के मैल से एक पुरुष का निर्माण किया। वह देखने में परम सुन्दर तथा बल – पराक्रम से सम्पन्न था। पार्वती जी ने उसे नाना प्रकार के आभूषण …

Read More »

Group of Monkeys, A Bell and A Brave Woman

Group of Monkeys, A Bell and A Brave Woman

Once upon a time, in the city of Brahmaputra, there lived a thief. One day, he stole a temple bell and ran away into jungle. A tiger, who heard the sound of the bell, was curious to know where the sound was coming from. When he saw the thief, the tiger pounced upon him and killed him. The bell, fell …

Read More »

How Ganesh came to have elephant’s head

How Ganesh came to have elephant's head

When the Gods lived on the earth, Lord Shiva – Mahadeva, the Lord of All, lived on the highest peak of the Himalayas. With him lived his wife, Goddess Parvati. They had no child. For thousands of years they lived there, looking down upon the entire world, which lay at their feet. But even the gods have their own sorrows, …

Read More »

चतुर सुनार – स्वप्ना दत्त

चतुर सुनार

एक समय की बात है – एक राजा था, जिसे अपने बुद्धिमान होने का बड़ा घमंड था। उसका विशवास था कि पूरे राज्य में एक भी ऐसा नही है, जो उसे धोका देकर साफ़ निकल जाए। एक दिन यह बात उसने मंत्रियों से कही। सबने हकमी भर दी, सिवाय एक के। राजा को बड़ा आश्चर्य हुआ। “क्या तुम नही मानते …

Read More »

मुक्ति का उपाय – पौराणिक ज्ञानवर्धक कथा

मुक्ति का उपाय - पौराणिक ज्ञानवर्धक कथा

पुराण भारतीय संस्कृति की अमूल्य निधि है। पुराणों में मानव जीवन को ऊँचा उठाने वाली अनेक सरल, सरस, सुन्दर और विचित्र-विचित्र कथाएँ भरी पड़ी हैं। उन कथाओं का तात्पर्य राग-द्वेष रहित होकर अपने कर्तव्य का पालन करने और भगवान को प्राप्त करने में ही है। पद्मपुराण के भूमिखण्ड में ऐसी ही एक कथा आती है। अमरकण्टक तीर्थ में सोम शर्मा …

Read More »

कृष्णा – वीर राजपूत नारी की लोक कथा

कृष्णा – वीर राजपूत नारी की लोक कथा

मेवाड़ के महाराजा भीमसिंह की पुत्री कृष्णा अत्यन्त सुन्दरी थी। उससे विवाह करने के लिये अनेक वीर राजपूत उत्सुक थे। जयपुर और जोधपुर के नरेशों ने उससे विवाह करने की इच्छा प्रकट की थी। मेवाड़ के महाराणा ने सब बातों को विचार करके जोधपुर नरेश के यहाँ अपनी पुत्री की सगाई भेजी। जब जयपुर के नरेश को इस बात का …

Read More »

वीरमती – वीर मराठा नारी की लोक कथा

वीरमती - वीर मराठा नारी की लोक कथा

देवगिरि नामक एक छोटा – सा राज्य था। चौदहवीं शताब्दी में वहाँ के राजा रामदेव पर अलाउद्दीन ने चढ़ाई की। उसने राजा रामदेव के पास अधीनता स्वीकार करने के लिये संदेस भेजा, किन्तु सच्चे राजपूत पराधीन होने के बदले युद्ध में हँसते – हँसते मर जाना अधिक उत्तम मानते हैं। राजा रामदेव ने अलाउद्दीन को बहुत कड़ा उत्तर दिया। क्रोध …

Read More »

Krishna’s Childhood in Vrindavana

Krishna's Childhood in Vrindavana

When Yasoda and Nanda found Krishna as their son, they performed all the religious ceremonies in secret, to avoid Kansa’s wrath. The family astrologer, Gargamuni, told the family, “Your son Krishna is the Supreme Personality of Godhead. He will protect you from Kansa’s persecutions, and by His grace only, you will surpass all difficulties. Therefore raise Him carefully, because many …

Read More »

Krishna and the cowboy

Krishna and the cowboy

Krishna was a very poor boy. He lived in the village with his mother. His father was dead. When Krishna was five-year-old, his mother sent him to school. The road seemed very long. Krishna thought he had lost his way. He went on and on, till he saw the other village boys going to school. He joined them, and at …

Read More »