Home » Tag Archives: Top 10 Emptiness Quotations in Hindi

Tag Archives: Top 10 Emptiness Quotations in Hindi

अमिताभ बच्चन के प्रसिद्ध फिल्मी डायलॉग

अमिताभ बच्चन के प्रसीद फ़िल्मी डॉयलॉग्स

अमिताभ बच्चन (जन्म-11 अक्टूबर, 1942) बॉलीवुड के सबसे लोकप्रिय अभिनेता हैं। 1970 के दशक के दौरान उन्होंने बड़ी लोकप्रियता प्राप्त की और तब से भारतीय सिनेमा के इतिहास में सबसे प्रमुख व्यक्तित्व बन गए हैं। अमिताभ बच्चन ने अपने करियर में कई पुरस्कार जीते हैं, जिनमें तीन राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार और बारह फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार शामिल हैं। उनके नाम सर्वाधिक सर्वश्रेष्ठ …

Read More »

धूम्रपान निषेध नारे विद्यार्थियों और बच्चों के लिए

तम्बाकू पर उद्धरण

धूम्रपान निषेध नारे विद्यार्थियों और बच्चों के लिए: तंबाकू से लाखों लोग कई गंभीर बीमारियों का शिकार हो जाते हैं और समय से पहले ही बीमारियों का शिकार होने के साथ-साथ मौत के मुंह में चले जाते हैं। इसके बावजूद लाखों लोग यहां तक की किशोर भी तंबाकू खाने के आदी हैं। आज तंबाकू न सिर्फ किशोरों के दिमाग को …

Read More »

भगवान महावीर के अनमोल वचन विद्यार्थियों के लिए

Lord Mahavir Quotes in Hindi

भगवान महावीर के अनमोल वचन विद्यार्थियों के लिए: पंचशील सिद्धान्त के प्रर्वतक एवं जैन धर्म के चौबिसवें तीर्थकंर महावीर स्वामी अहिंसा के मूर्तिमान प्रतीक थे। जिस युग में हिंसा, पशुबलि, जाति-पाँति के भेदभाव का बोलबाला था उसी युग में भगवान महावीर ने जन्म लिया। उन्होंने दुनिया को सत्य, अहिंसा जैसे खास उपदेशों के माध्यम से सही राह दिखाने की ‍कोशिश …

Read More »

तम्बाकू पर उद्धरण विद्यार्थियों और बच्चों के लिए

तम्बाकू पर उद्धरण

31 मई को तम्बाकू निषेध दिवस / World No Tobacco Day मनाया जाता है आइये इस अवसर पर हम संकल्प लें कि खुद भी नशा नही करेंगे और अन्य लोगो को भी नशा ना करने के लिये प्रोत्साहित करेंगे। पेश हैं तम्बाकू के बारे में कहे कुछ परषिद उद्धरण। आप को पसंद आएं तो लिखे जरूर कीजियेगा।

Read More »

माँ और मातृत्व पर उद्धरण विद्यार्थियों और बच्चों के लिए

माँ और मातृत्व पर उद्धरण - Famous Hindi Quotes on Mother & Motherhood

माँ और मातृत्व पर उद्धरण विद्यार्थियों और बच्चों के लिए: माँ एक अनुभूति, एक विश्वास, एक रिश्ता नितांत अपना सा। गर्भ में अबोली नाजुक आहट से लेकर नवागत के गुलाबी अवतरण तक, मासूम किलकारियों से लेकर कड़वे निर्मम बोलों तक, आँगन की फुदकन से लेकर नीड़ से सरसराते हुए उड़ जाने तक, माँ मातृत्व की कितनी परिभाषाएँ रचती है। स्नेह, …

Read More »