Home » Tag Archives: Poor People Stories for Students

Tag Archives: Poor People Stories for Students

शिबू का नया साल: गरीब विद्यार्थी की प्रेरक कहानी

शिबू का नया साल: गरीब विद्यार्थी की प्रेरक कहानी

नया साल आने वाला था और क्लास के सभी बच्चों में खुसुर पुसुर शुरू हो गई थी। सबको पता था कि इस साल भी प्रिंसिपल सर बच्चों के साथ नए साल पर कोई बढ़िया सा आइडिया लेकर आएँगे। क्लास का मॉनीटर दीपेश डस्टर से दस बार ब्लैक बोर्ड पोंछ चुका था पर प्रिंसिपल सर ने अभी तक एंट्री नहीं ली …

Read More »

उपकार: क्रिसमस पर बाल कहानी

उपकार Short Humorous Christmas story in Hindi

“पापा… आपको पता है ना कि परसों क्रिसमस है।”पापा ने मुस्कुराते हुए आठ साल के हैरी की तरफ़ देखा जो अपनी भूरी आँखें उनके चेहरें की ओर गड़ाए बैठा था। उसके गोरे चेहरे पर घुँघराले भूरे बाल धूप में चमकने के कारण सुनहरे लग रहे थे।उन्होंने उसे प्यार से उठाकर गोदी में बैठा लिया।हैरी लड़ियाते हुए बोला – “इस साल …

Read More »

क्रिसमस की कहानी

क्रिसमस की कहानी - Story of Christmas in Hindi

क्रिसमस एक ऐसा त्यौहार है जिसे शायद दुनिया के सर्वाधिक लोग पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाते हैं। आज यह त्यौहार विदेशों में नहीं बल्कि भारत में भी समान जोश के साथ मनाया जाता है। भारत की विविधतापूर्ण संस्कृति के साथ क्रिसमस का त्यौहार भी पूरी तरह घुल-मिल गया है। सदियों से यह त्यौहार लोगों को खुशियां बांटता और प्रेम और सौहार्द …

Read More »

क्रिसमस और सांता क्लॉज़ का तोहफा: मंजरी शुक्ला

Heart Touching Hindi Christmas Story क्रिसमस और सांता क्लॉज़ का तोहफा

बहुत समय पहले की बात हैं। एक गाँव में एक बूढ़ी औरत मारिया अपने दस वर्ष के पोते जॉर्ज के साथ रहती थी। उसने अपने बाग़ में ढेर सारे फूल जैसे चंपा, जूही, गुलाब, गेंदा, आईरिस, गुलमोहर और आर्किड लगा रखे थे और एक छोटा सा तालाब भी बनाया था जिसमें हल्के लाल और सफ़ेद रंग के कमल के फूल खिले रहते थे।वह दिन …

Read More »

नन्हें फ़रिश्ते: क्रिसमस के त्यौहार की दिल छू लेने वाली कहानी

Heart Touching Hindi Christmas Story Little Angels नन्हें फ़रिश्ते

क्रिसमस आने में सिर्फ़ दो दिन बाकी थे और हर साल की तरह पूरा शहर रौशनी में नहाया हुआ था। केक, पेस्ट्री और ताजे बिस्कुट की भीनी-भीनी महक से सबके कदम खुद ब खुद बेकरी की ओर खिंचे चले जा रहे थे। दर्ज़ी की दुकान में तो तिल रखने की भी जगह नहीं बची थी। बच्चे हो या बड़े, नए …

Read More »

क्रिसमस गिफ्ट: गरीबी में खुशी का त्यौहार

क्रिसमस गिफ्ट Inspirational Hindi Story about Christmas Gift

आज क्रिसमस का दिन था और मारिया अपनी बड़ी-बड़ी नीली आँखों से खिड़की के बाहर झाँक रही थी। उसकी आँखों में बार-बार आँसूं आ रहे थे, जिन्हें वह अपनी माँ से छिपाकर फ्राक से पोंछ रही थी। वह अभी केवल तेरह वर्ष की ही थी पर चेहरे की गंभीरता से वह बहुत बड़ी लग रही थी। उसे खिड़की पर खड़े …

Read More »

Christmas: Kids Short Story with Moral

English Wisdom Story for Kids: Christmas

Christmas: Kids Short Story By Manjari Shukla On this Christmas Eve, Michael was wandering in the garb of Santa Claus with a bag full of gifts. Being a crooked thief, he was adept at disguising himself and robbing people even during broad day light. Suddenly he noticed a lady waving good bye to a small boy.Michel thought – “I am …

Read More »

Legend of Christmas Tree: Story for Students

The Legend of the Christmas Tree

Most children have seen a Christmas tree, and many know that the pretty and pleasant custom of hanging gifts on its boughs comes from Germany; but perhaps few have heard or read the story that is told to little German children, respecting the origin of this custom. The story is called “The Little Stranger,” and runs thus: In a small …

Read More »

Spirit of Diwali: Inspirational story of a Dhaba boy

Inspirational story of a Dhaba boy - Spirit of Diwali

Chandan put his hands on his ears trying to shut off the sounds. It was Diwali night. The entire city was lit up. Fire crackers were exploding everywhere. Chandan was lying on a dirty wooden bench in one corner of a dhaba in which he worked, trying to shut off the world and sleep. Diwali – the festival of lights …

Read More »

दिल छू लेने वाली कहानी: दिवाली के दिए

Heart touching story about Diwali Festival दिवाली के दिए

पखवाड़े बाद दिवाली थी। सारा शहर दीवाली के स्वागत में रोशनी से झिलमिला रहा था। कहीं चीनी मिटटी के बर्तन बिक रहे थे तो कहीं मिठाई की दुकानो से आने वाली मन भावन सुगंध लालायित कर रही थी। उसका दिल दुकान में घुसने का कर रहा था और मस्तिष्क तंग जेब के यथार्थ का बोध करवा रहा था। “दिल की छोड़ …

Read More »