Home » Tag Archives: Motivational Hindi Poems (page 18)

Tag Archives: Motivational Hindi Poems

बोलो राम जय जय राम: जगजीत सिंह (भगवान राम भजन Video)

Jagjit Singh

बोलो राम जय जय राम, जन्म सफल होगा बन्दे, मन में राम बसा ले, हे राम नाम के मोती को, सांसो की माला बना ले, राम पतित पवन करुनाकर, और सदा सुख दाता, सरस सुहावन अति मनभावन, राम से प्रीत लगा ले, मन में राम बसा ले, मोह माया है झूटा बन्धन, त्याग उसे तू प्राणी, राम नाम की ज्योत …

Read More »

महिला दिवस पर कविता: पहली नारी

महिला दिवस पर कविता - पहली नारी

मेरा प्रणाम है पहली नारी सीता को जिसने एक सीमा (लक्ष्मण रेखा) को तोडकर भले ही जीवन भर अथाह दुख सहे लेकिन आधुनिक नारी को आजादी का मार्ग दिखा दिया धन्य हो तुम माँ सीता तुमने नारी का मन जीता बढाया था तुमने पहला कदम जीवन भर मिला तुम्हें बस गम पर नई राह तो दिखला दी नारी को आज़ादी …

Read More »

नारी तुझे सलाम: अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस के सन्दर्भ में हिंदी कविता

नारी तुझे सलाम Women's Day Special Hindi Poem

इश्क में तू जुनून में तू कोयल के कुहु में तू माँ भी तू ममता भी तू अदम्य साहस की क्षमता भी तू कला में तू विज्ञान में तू देश के निरंतर उत्थान में तू संसार में तू सर-हद पार में तू आधुनिक विमर्श-विचार में तू लक्ष्मी भी तू सरस्वती भी तू असंख्य रूप पार्वती की तू कोई न तुझे …

Read More »

हम कबीर के वंशज चुप कैसे रहते: कुमार विश्वास

हम कबीर के वंशज चुप कैसे रहते: कुमार विश्वास

Kumar Vishwas has emerged as a very popular Hindi poet who is also in politics. He often conveys his frustrations through his poems. His tussle with Aam Aadmi Party, especially with the chief Arvind Kejariwal is often talked about and recently culminated in refusal to him of Rajya Sabha nomination from AAP. He attributes it to his inability to blindly …

Read More »

अंतरराष्ट्रीय नारी दिवस पर कविता: मैं नारी

मैं नारी - अंतरराष्ट्रीय नारी दिवस पर एक कविता

1933 से 1945 के बीच अमेरिका की फर्स्ट लेडी रहीं एलियानोर रूजवेल्ट ने कहा था, ‘महिला एक टीबैग की तरह है, जब तक आप उसे गर्म पानी में न डालें तब तक पता ही नहीं चलता कि वह कितनी स्ट्रॉन्ग है।’ उसने मां, बेटी, बहन और दोस्त जैसे न जाने कितने किरदारों में खुद को हर बार साबित किया है, …

Read More »

देश की धरती तुझे कुछ और भी दूँ: राम अवतार त्यागी

देश की धरती, तुझे कुछ और भी दूँ - राम अवतार त्यागी

रामावतार त्यागी का जन्म 17 मार्च 1925 को उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद ज़िले की संभल तहसील में हुआ। आप दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातकोत्तर थे। हिन्दी गीत को एक नई ऊँचाई देने वालों में आपका नाम अग्रणीय है। रामधारी सिंह दिनकर सहित बहुत से हिंदी साहित्यकारों ने आपके गीतों की सराहना की थी। ‘नया ख़ून’; ‘मैं दिल्ली हूँ’; ‘आठवाँ स्वर’; ‘गीत …

Read More »

हर घट से: चिंतन पर नीरज की प्रेरणादायक हिंदी कविता

Gopal Das Neeraj

This is a famous poem of Niraj. One has to be selective in life, put in sustained efforts and be patient in order to succeed. हर घट से: गोपाल दास नीरज हर घट से अपनी प्यास बुझा मत ओ प्यासे! प्याला बदले तो मधु ही विष बन जाता है! हैं बरन बरन के फूल धूल की बगिया में लेकिन सब ही …

Read More »