Tag Archives: Kids Poems for Students

आया वसंत: सोहनलाल द्विवेदी की बसंत पर बाल-कविता

आया वसंत - सोहनलाल द्विवेदी

Here is a simple poem on spring for children. The scenery described comprising the mustard fields and flowering of mango trees is something that many urban children today would not be familiar with. For old timers, these things arouse nostalgia. आया वसंत: सोहनलाल द्विवेदी आया वसंत आया वसंत छाई जग में शोभा अनंत सरसों खेतों में उठी फूल बौरें आमों …

Read More »

कौन सिखाता है चिड़ियों को: सोहनलाल द्विवेदी

कौन सिखाता है चिड़ियों को - सोहनलाल द्विवेदी

Here is a popular poem of Sohanlal Dwivedi Ji. Who teaches birds… Many would have read it in school days. कौन सिखाता है चिड़ियों को: सोहनलाल द्विवेदी कौन सिखाता है चिडियों को चीं–चीं चीं–चीं करना? कौन सिखाता फुदक–फुदक कर उनको चलना फिरना? कौन सिखाता फुर से उड़ना दाने चुग-चुग खाना? कौन सिखाता तिनके ला–ला कर घोंसले बनाना? कौन सिखाता है …

Read More »

Thai Pongal: English poem on Pongal Festival

Thai Pongal - English poem on Pongal Festival

Milk Rice the Golden child came – granting immeasurable ecstasy in her cooking Farmers with the beauty of lion dream a picturesque memory this new year gleam. Elevated threshing floor courtyard the face-where month of January gave love’s kiss with rice share abundance in red rice and charity – sweet to the tongue January child glad to meet. With the …

Read More »

क्रिसमस: क्रिसमस डे पर हिंदी बाल-कविता

Santa and the Christmas gift: Children's Story

क्रिसमस डे पर कविता: राहुल उपाध्याय छुटि्टयों का मौसम हैत्योहार की तैयारी हैरौशन हैं इमारतेंजैसे जन्नत पधारी है।कड़ाके की ठंड हैऔर बादल भी भारी हैबावजूद इसके लोगों में जोश हैऔर बच्चे मार रहे किलकारी हैंयहाँ तक कि पतझड़ की पत्तियाँ भीलग रही सबको प्यारी हैंदे रहे हैं वो भी दानजो धन के पुजारी हैं।खुश हैं ख़रीदारऔर व्यस्त व्यापारी हैंखुशहाल हैं …

Read More »

क्रिसमस आया क्रिसमस आया: छोटे बच्चों की कविता

Christmas SMS - Christmas SMS Messages

क्रिसमस आया क्रिसमस आया,बच्चों का है मन ललचाया।सैंटा क्लॉज आएंगे,नए खिलौने लाएंगे।सैंटा क्लॉज ने दी आवाज,एनी आओ, पेनी आओ,जॉनी आओ, जॉन आओ,यीशु की ये याद का दिन है,बच्चों का ये प्यार का दिन है। ∼ वर्षा रस्तोगी

Read More »

आया है भाई हैप्पी क्रिसमस: बड़े दिन पर हिंदी बाल-कविता

How To Draw Santa Claus

गोलू, सोनू छोड़ो असमंजस,आया है भाई हैप्पी क्रिसमस।लो आई मस्ती की बहार,मांगो क्या चाहिए उपहार,सांता क्लॉज़ उनको ही देंगे,जिनका होगा सद्व्यवहार,किस उधेड़-बुन में गए फंस,आया है भाई हैप्पी क्रिसमस।ईसा मसीह का जन्मदिन,क्रिसमस ट्री सजाने का दिन,सभी मिल गाओ ताक-धिना-धिन,तोहफों का आनंद लो हंस हंस,आया है भाई हैप्पी क्रिसमस। ∼ विपिन

Read More »

सांता आओ: क्रिसमस पर बाल-कविता

Inspirational Christmas Hindi Poem for Children सांता आओ

सांता आओ सांता आओशांति और खुशहाली लाओचॉकलेट टॉफियां हुई पुरानीदेश प्रेम का सन्देश लाओसांता आओ सांता आओशांति और खुशहाली लाओआतंकवाद बढ़ा है देश मेंउसको दूर भगाओसांता आओ सांता आओशांति और खुशहाली लाओन्यारी प्यारी दुनिया सारीआतंकवाद से बिगड़ रही हैसबको प्यार का पाठ पढ़ाओसांता आओ सांता आओशांति और खुशहाली लाओ ∼ शिवांगी गोस्वामी [रॉयन इंटरनेशनल स्कूल, कक्षा – ५ ‘अ’ – जयपुर, राजस्थान]

Read More »

कोयल: सुभद्रा कुमारी चौहान की हिंदी बाल-कविता

कोयल - सुभद्रा कुमारी चौहान

Here is an old classic poem that many of us have read in childhood. Poetess is the Late and Great Subhadra Kumari Chauhan. Many of her other very famous poems like “खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी“ कोयल: सुभद्रा कुमारी चौहान देखो कोयल काली है, पर मीठी है इसकी बोली। इसने ही तो कूक-कूक कर आमों में …

Read More »

Oh No, Not Halloween Again: Children’s Poem

Oh No, Not Halloween Again

Many people around the world celebrate Halloween, which occurs annually on October 31. It is the day before All Saints’ Day, and is also sometimes called All Hallows’ Eve and Hallowmas Eve. Costume parties are held and many children go trick-or-treating around this time of the year. Oh No, Not Halloween Again: Anonymous It’s that time of year again, Halloween Oh …

Read More »

Halloween Wind: Halloween Poem For Children

Halloween

Halloween began as the festival of Samhain. It was part of the ancient Celtic religion in Britain and other parts of Europe. At the end of summer, the Celts thought the barrier between our world and the world of ghosts and spirits got really thin. This meant weird creatures with strange powers could wander about on Earth. The Celts had …

Read More »