Tag Archives: Inspirational Stories for Kids

शिक्षाप्रद हिंदी कहानी: दिवाली की ऑनलाइन शॉपिंग

शिक्षाप्रद हिंदी कहानी: दिवाली की ऑनलाइन शॉपिंग

“ऑनलाइन शॉपिंग का क्या बुखार चढ़ा है तुम्हें”? रोहित आशीष के कमरे में घुसता हुआ बोला। “हा हा… कितने आराम से सभी चीज़े घर बैठे मिल जाती है और वो भी बहुत सस्ती” आशीष हँसते हुए बोला। “वो तो ठीक है, पर इसका मतलब ये तो नहीं कि तू पेन से लेकर पेंसिल तक ऑनलाइन ही ख़रीदे। हम सब दोस्तों …

Read More »

शिक्षाप्रद हिंदी बाल-कहानी: बुद्धिमान बंजारा

Munshi Premchand Classic Hindi Story दो बैलों की कथा

एक बंजारा था। वह बैलों पर मेट (मुल्तानी मिट्टी) लादकर दिल्ली की तरफ आ रहा था। रास्ते में कई गांवों से गुजरते समय उसकी बहुत-सी मेट बिक गई। बैलों की पीठ पर लदे बोरे आधे तो खाली हो गए और आधे भरे रह गए। अब वे बैलों की पीठ पर टिके कैसे? क्योंकि भार एक तरफ हो गया। नौकरों ने …

Read More »

हैप्पी टीचर्स डे: दिल को छू लेने वाली हिंदी बाल-कहानी

हैप्पी टीचर्स डे: दिल को छू लेने वाली हिंदी बाल-कहानी

आज जब रोहित स्कूल के लिए निकला तो उसे घर के सामने वाली सड़क पर उसी की उम्र का बच्चा फूल बेचते हुए दिखा। रोहित को लगा कि उसने उस लड़के को पहले भी कहीं देखा है। वह बहुत गौर से उसे देखने लगा पर बहुत याद करने पर भी उसे कुछ याद नहीं आया। कई बार रोहित सड़क पर गिरते गिरते …

Read More »

Inspirational Story About Class Teacher making a difference: Incredibly Touching

Inspirational Story About Class Teachers making a difference - Incredibly Touching

Her name was Mrs. Thompson. As she stood in front of her 5th grade class on the very first day of school, she told the children a lie. Like most teachers, she looked at her students and said that she loved them all the same. But that was impossible, because there in the front row, slumped in his seat, was …

Read More »

Story of Tansen’s Music Teacher: Song of Songs

Tansen's Music Teacher

Slowly, gently, the exhausted musician laid his tanpura on the carpet. The exquisite strains of raag darbari still vibrated within the hall. Emperor Akbar looked up, his eyes lit with admiration. “Wonderful!” he said. “Superb! I listen to you every day, but I can’t seem to have enough!” Tansen bowed in silent gratitude. “I think you have the most wonderful …

Read More »

Janmashtami: Story of Lord Krishna’s birth

Janmashtami: Story of Lord Krishna's birth

Old King Ugrasena of Mathura (Uttar Pradesh, India) had two children, Prince Kamsa and Princess Devaki. While King Ugrasena was a good king, Prince Kamsa was a ruthless tyrant. Now Princess Devaki was to wed a nobleman named Vasudeva. Kamsa out of the love he bore for his sister decided to be the bride and groom’s charioteer for the day. …

Read More »

योग्य वर की तलाश: ज्ञानवर्धक हिन्दी बाल कहानी

योग्य वर की तलाश: ज्ञानवर्धक हिन्दी बाल कहानी

बहुत पुराने समय की बात है जब भारत देश छोटे-छोटे राज्यों में बंटा हुआ था। एक राज्य के राजा थे विक्रम सिंह। सावित्री देवी पत्नी के रूप में रानी थी। उनकी एक ही बेटी थी राजकुमारी मनीषा जो बहुत ही समझदार और सुन्दर थी। राज्य के सभी कार्य सुचारू रुप से चल रहे थे। राजकुमारी मनीषा की आयु शादी लायक …

Read More »

Friendship: Animal Inspirational English Story

Inspirational Animals English Story: Friendship

Pinku, a little squirrel was fond of placing bets with her friend Tutu parrot. However she always felt disappointed, as she always lost the bet. Poor Pinku was forced to offer five of her favorite nuts in return. All her friends advised her to avoid any further betting but Pinku used to remain silent with a faint smile. Tutu had …

Read More »

Motivational Story about School Friends: My Friend and I

Motiational English Story about School Friends: My Friend and I

“Vijaylakshmi”, called out the teacher of Class VI B, nodding at the girl seated in the middle of the room, “please come here”. The girl in the candy-striped uniform rose, black eyes flickering nervously. Her thick, frizzy hair was pulled tightly back into a long, heavy plait but wisps of hair had escaped and framed her face in a halo …

Read More »

फूलों का नगर: दो दोस्तों की प्रेरणादायक कहानी

Inspirational Hindi Story of Two Friends फूलों का नगर

गुरु वशिष्ठ के यहाँ बहुत से राजकुमार शिक्षा प्राप्त करने के लिए दूर दूर से आते थे और गुरुकुल में रहा करते थे। गुरूजी सभी शिष्यों को समान रूप से प्रेम करते थे, और उनमें किसी तरह का कोई भेदभाव नहीं करते थे। यू तो सभी उनकी बहुत सेवा करते थे पर अमृत और शांतनु दिन रात की परवाह किये …

Read More »