Tag Archives: Hindu Festivals Poems for Students

ब्रह्मा मुरारी सदा पूजितः महाशिवरात्रि संस्कृत भजन

शिव के नाम में छिपे रहस्य

महाशिवरात्रि संस्कृत भजन ब्रह्मा मुरारी सदा पूजितः नमः शिवाय नमः शिवाय बिल्वचारना प्रिया भवानी शंकरा नमः शिवाय नमः शिवाय मृत्युंजय महादेव महादेव महेश्वरा महेश्वरा नमः शिवाय नमः शिवाय भस्मो धुळीथा थेजो विग्रह नमः शिवाय नमः शिवाय लिंगोद्भवकारा साईं महेश्वरा महेश्वरा नमः शिवाय नमः शिवाय नमः शिवाय नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय, शिवाय नमः ॐ ॐ नमः शिवाय, शिवाय नमः ॐ …

Read More »

जय शिव शंकर: महाशिवरात्रि भजन

Lord Shiva - Hindu God

जय शिव शंकर, स्वामी जय शिव शंकर कष्ट हरो स्वामी हमार, स्वामी कष्ट हरो हमार शरण में अपनी ले के भगवन, मौका दो अपनी सेवा का हे मेरे भोलेनाथ, यही विनती करता हूँ स्वामीनाथ क्या माया है क्या नहीं, मैं अज्ञानी नहीं जानू मेरे स्वामी मैं तो आपको सर्वस्व मानु अपना सेवक बना लो भगवन, मैं ना चाहुँ ये संसार …

Read More »

महाशिवरात्रि भजन: अरुणाचल शिवा साईं शंकरा

महाशिवरात्रि भजन

महाशिवरात्रि भजन अरुणाचल शिवा साईं शंकरा नाचो हे नटराज भस्म भूषण नागाभरणा नाचो हे शिवा राज तांडव प्रिया करा, नटना नटेश्वर, नाचो हे नटराज नाचो हे नटराज दमा दमा दमा दमा डमरू बजावो झना झना झना झना पायलिया धिमिकी धिमिकी धीमी, धिमिकी धिमिकी धीमी, नाचो हे नटराज नाचो हे नटराज महाशिवरात्रि भजन और गानों पर भोलेनाथ की भक्ती में झूम जाएंगे …

Read More »

Maha Shivaratri Bhajans For Hindu Devotees

Maha Shivaratri Bhajans: Hindu Culture & Traditions

Mahashivaratri is an auspicious occasion for Hindus. It is the festival when Lord Shiva, one of the deities of Hindu Trinity (the other two being Lord Brahma and Lord Vishnu), is worshiped with immense devotion. The ceremonious occasion, which honors Lord Shiva, falls on the moonless 14th night of the new moon in the Hindu month of Phalgun, which corresponds …

Read More »

Shiva Chalisa: Maha Shivaratri Prayer in Hindi

Shiva Chalisa: Maha Shivaratri Culture & Traditions

Mahashivaratri is a special day for the devotees of Lord Shiva. On the festival, people would observe a fast for the entire day and sing bhajans and songs in the praise of the deity. Lord Shiva temples are flocked by devotees, as special puja is conducted all through the day. Different types of Abhishek are performed, with the use of …

Read More »

दिवाली रोज़ मनाएं: दीपावली पर छोटी हिन्दी कविता

दिवाली रोज़ मनाएं - संदीप फाफरिया ‘सृजन’

भारत में यह त्योहार पांच दिनों तक मनाया जाता है। धनतेरस से भाई दूज तक यह त्योहार चलता है। धनतेरस के दिन व्यापार अपने बहीखाते नए बनाते हैं। अगले दिन नरक चौदस के दिन सूर्योदय से पूर्व स्नान करना अच्‍छा माना जाता है। अमावस्या के दिन लक्ष्मीजी की पूजा की जाती है। खील-बताशे का प्रसाद चढ़ाया जाता है। नए कपड़े …

Read More »

मंगल दीप दिवाली: दिवाली पर हिंदी कविता

Motivational Hindi Poem about Diwali Festival मंगल दीप दिवाली

वह मंगल दीप दिवाली थी, दीपों से जगमग थाली थी। कोई दिये जला कर तोड़ गया, आशा की किरन को रोक गया॥ इस बार न ये हो पाएगा, अँधियारा ना टिक पाएगा। कर ले कोशिश कोई लाख मगर, कोई दिया न बुझने पाएगा॥ जब रात के बारह बजते हैं, सब लक्ष्मी पूजा करते हैं। रात की कालिमा के लिए, दीपों …

Read More »

दीप जलाओ दीप जलाओ आज दिवाली रे: बाल-कविता

Diwali Festival Hindi Bal Kavita दीप जलाओ दीप जलाओ आज दिवाली रे

दिवाली भारतीयों के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण त्योहार है और हमारे लिए लगभग कोई भी त्योहार आतिशबाजी के बिना पूरा नही माना जाता है। लोग पटाखों और आतिशबाजी को लेकर इतने उत्सुक होते हैं कि वह दिवाली के एक दिन पहले से ही पटाखे फोड़ना शुरु कर देते हैं और कई बार तो लोग हफ्तों पहले ही पटाखे फोड़ना …

Read More »

Sonnet: Diwali – Diwali Festival English Poem

Sonnet: Diwali - Dr John Celes

Diwali is the most significant and famous festival of the India which is being celebrated every year all over the country as well as outside the country. People celebrate it very enthusiastically to commemorate the returning of Lord Rama to his kingdom, Ayodhya after a long period of time of 14 years of exile after defeating the Ravana. On the …

Read More »

Deepavali Delights: Diwali Festival English Poetry

Short English Poem about Diwali Festival: Deepavali Delights

India is the great country known as the land of festivals. One of the famous and most celebrated festival is Diwali or Deepawali which falls every year 20 days after the festival of Dussehra in the month of October or November. It is celebrated to commemorate the returning of Lord Rama to the Kingdom after the 14 years of exile. …

Read More »