Home » Tag Archives: Festivals Poems for Students

Tag Archives: Festivals Poems for Students

Happy Hanukkah: A Good Kids Hanukkah Poem

Hanukkah Poems

Outside, snow is slowly, softly Falling through the wintry night. In the house, the brass menorah Sparkles with the candlelight. Children in a circle listen To the wondrous stories told, Of the daring Maccabeans And the miracles of old. In the kitchen, pancakes sizzle, Turning brown, they’ll soon be done. Gifts are waiting to be opened, Happy Hanukkah’s begun. ∼ Eva …

Read More »

Joyous Hanukkah: Hanukkah Festival Kids Poem

Joyous Hanukkah - Eva Grant

At last! At last! Hanukkah is here! The whole house is bursting with holiday cheer. Pancakes are sizzling as hard as they can, Browning delectably crisp in the pan. The dreidels can scarcely wait to be spun; Presents are hidden for Hanukkah fun; And there, on the table, polished and bright, The shining menorah gleams through the night, Like the …

Read More »

आई अब की साल दिवाली: कैफ़ी आज़मी

आई अब की साल दिवाली मुँह पर अपने खून मले - कैफ़ी आज़मी

आई अब की साल दिवाली मुँह पर अपने खून मले आई अब की साल दिवाली चारों तरफ़ है घोर अन्धेरा घर में कैसे दीप जले आई अब की साल दिवाली… बालक तरसे फुलझड़ियों को (दीपों को दीवारें – २) माँ की गोदी सूनी सूनी (आँगन कैसे संवारे – २) राह में उनकी जाओ उजालों बन में जिनकी शाम ढले आई …

Read More »

दीप जलाओ दीप जलाओ आज दिवाली रे: बाल-कविता

Diwali Festival Hindi Bal Kavita दीप जलाओ दीप जलाओ आज दिवाली रे

दीप जलाओ, दीप जलाओ, आज दिवाली रे, खुशी-खुशी सब हंसते आओ, आज दिवाली रे। मैं तो लूंगा खेल-खिलौने, तुम भी लेना भाई, नाचो, गाओ, खुशी मनाओ, आज दिवाली आई। आज पटाखे खूब चलाओ, आज दिवाली रे, दीप जलाओ, दीप जलाओ, आज दिवाली रे। नए-नए मैं कपड़े पहनूं, खाऊं खूब मिठाई, हाथ जोड़कर पूजा कर लूं आज दिवाली आई। खाओ मित्रों, …

Read More »

दिवाली पर हिंदी कविता: मंगल दीप दिवाली

Motivational Hindi Poem about Diwali Festival मंगल दीप दिवाली

वह मंगल दीप दिवाली थी, दीपों से जगमग थाली थी। कोई दिये जला कर तोड़ गया, आशा की किरन को रोक गया॥ इस बार न ये हो पाएगा, अँधियारा ना टिक पाएगा। कर ले कोशिश कोई लाख मगर, कोई दिया न बुझने पाएगा॥ जब रात के बारह बजते हैं, सब लक्ष्मी पूजा करते हैं। रात की कालिमा के लिए, दीपों …

Read More »

दिवाली के त्यौहार पर कविता: आई रे आई दिवाली

आई रे आई दिवाली - टीना जिंदल

आई रे आई दिवाली पटाखे तोहफे लायी दिवाली दिल को खुश करने आई दिवाली आई रे आई दिवाली आई रे आई दिवाली मज़े करते हुए बच्चे देखो मम्मी का ना पापा का डर है स्कूल का ना टीचर का डर है बल्ब फूल लगते पापा मंदिर सजाती देखो मम्मी बच्चे हैं खेलते कूदते पटाखों में एकदम मस्त हैं खाना देखो …

Read More »

दीपावली पर छोटी हिन्दी कविता: दिवाली रोज़ मनाएं

दिवाली रोज़ मनाएं - संदीप फाफरिया ‘सृजन’

दिवाली रोज मनाएं फूलझड़ी फूल बिखेरे चकरी चक्कर खाए अनार उछला आसमान तक रस्सी-बम धमकाए सांप की गोली हो गई लम्बी रेल धागे पर दौड़ लगाए आग लगाओ रॉकेट को तो वो दुनिया नाप आए टिकड़ी के संग छोटे-मोटे बम बच्चों को भाए ऐसा लगता है दिवाली हम तुम रोज मनाएं। ∼ संदीप फाफरिया ‘सृजन’

Read More »

गरीब की दिवाली: एक हृदय विदारक कविता

गरीब की दिवाली

पटाखों कि दुकान से दूर हाथों में, कुछ सिक्के गिनते मैंने उसे देखा। एक गरीब बच्चे कि आखों में, मैने दिवाली को मरते देखा। थी चाह उसे भी नए कपडे पहनने की, पर उन्ही पूराने कपडो को मैने उसे साफ करते देखा। हम करते है सदा अपने ग़मो कि नुमाईश, उसे चूप-चाप ग़मो को पीते देखा। जब मैने कहा, “बच्चे, …

Read More »

Season of Lights: Diwali Poem for Students

Diwali Festival Short English Poetry: Season of Lights

Here are interesting facts about Diwali Season of Lights: Children’s Diwali Poem Dunes of vapors from crackers rise, Engulf, as odorous airs resound Effusing joys to all abound Pearls of gleams in these autumn nights Adorn our lives else trite With sparklers that motley skies As soaring spirits of powder wander Let us thank the heavenly might, In this festive …

Read More »

Happy Diwali: Poem for Students and Children

Happy Diwali

It’s the “Festival of Lights” today, It’s again the day of Diwali, It’s time to dress up folks, It’s time to adorn the thali. It’s the occasion to throng the temples, Pray to the Gods and give them offerings, It’s an opportunity to entreat the deities, To bless us all and rid us of sufferings. It’s the day to light …

Read More »