Home » Tag Archives: Father Stories for Children

Tag Archives: Father Stories for Children

और रंग मुस्कुरा दिए: मंजरी शुक्ला

और रंग मुस्कुरा दिए: मंजरी शुक्ला

होली का त्यौहार आने वाला था। सारे घर में खुशी की लहर दौड़ रही थी। पापा मिठाइयों की लिस्ट बनाने में व्यस्त थे तो मम्मी नए कपड़े और पूजा का सामान लिख रही थी। मैं अपने दोस्तों के साथ ढेर सारे रंग और पिचकारियों के बारे में बात करता रहता था। सभी चिंता में थे कि कौन सी वाली पिचकारी …

Read More »

Be Helpful! English Moral Story For Children

Be Helpful! English Moral Story For Children

“I want a new ball” Vasu said.Papa was surprised, “But you had bought a new ball of your choice yesterday”.“Yes but Suraj did not like that ball” Vasu replied.“But why should you worry about that if you like that”.“Now I need a red ball” Vasu hugged his father.“Alright… we will get a red ball tomorrow for Vasu” his father patted …

Read More »

हास्यप्रद बाल-कहानी: ऐसे मना दशहरा

हास्यप्रद बाल-कहानी: ऐसे मना दशहरा

“दशहरे पर मैं रावण देखने जाऊंगी” दस साल की चित्राणी ने एलान कर दिया। “और मैं हमेशा की तरह नहीं ले जाऊँगा” पापा ने अखबार पढ़ते हुए ही जवाब दिया। “क्या हो जाएगा, अगर हम लोग रावण देखने चले जाएँगे… पूरी दुनिया तो जाती है” मम्मी ने हर साल की तरह रटा रटाया वाक्य दोहराया। मम्मी की बात पर चित्राणी …

Read More »

Three Ms for Freedom: Story of Young Freedom Fighters

India Independence Images, Struggle for Freedom Stock Photos

“Chandu wait. Let’s celebrate our victory,” Abdul requested. “I’ll just be back – I must tell Baba the news. It was his training that helped me win against the New English School Giants in the Kabaddi finals,” screamed Chandu. “I know, it was your stamina and speed that really worked,” Abdul said, “Thanks to Baba.” Chandu rushed home, “Baba, Baba! …

Read More »

पितृ दिवस पर कहानी: बाबूजी

Hindi Moral Story about a School Teacher परोपकार

जब ईश्वर जरुरत से ज्यादा झोली में गिर देता हैं तो वह भी मनुष्य के लिए अहंकार और पतन का कारण बन जाता हैं। ऐसा ही कुछ हुआ चाँदनी के साथ… सभ्य, सुशील और बेहद महत्वकांशी चाँदनी को जब महात्मा गाँधी के आदर्शों पर जीवन पर्यन्त चलने वाले ईमानदार और अकेले बाबूजी ने उसे पहली बार सरकारी स्कूल के प्रिंसिपल …

Read More »