Home » Tag Archives: Devotional Hindi Quotations

Tag Archives: Devotional Hindi Quotations

भगवान महावीर के अनमोल वचन विद्यार्थियों के लिए

Lord Mahavir Quotes in Hindi

भगवान महावीर के अनमोल वचन विद्यार्थियों के लिए: पंचशील सिद्धान्त के प्रर्वतक एवं जैन धर्म के चौबिसवें तीर्थकंर महावीर स्वामी अहिंसा के मूर्तिमान प्रतीक थे। जिस युग में हिंसा, पशुबलि, जाति-पाँति के भेदभाव का बोलबाला था उसी युग में भगवान महावीर ने जन्म लिया। उन्होंने दुनिया को सत्य, अहिंसा जैसे खास उपदेशों के माध्यम से सही राह दिखाने की ‍कोशिश …

Read More »

छठ पूजा उद्धरण और सन्देश विद्यार्थियों के लिए

छठ पूजा

छठ पर्व या छठ कार्तिक शुक्ल की षष्ठी को मनाया जाने वाला एक हिन्दू पर्व है। सूर्योपासना का यह अनुपम लोकपर्व मुख्य रूप से पूर्वी भारत के बिहार, झारखण्ड, पूर्वी उत्तर प्रदेश और नेपाल के तराई क्षेत्रों में मनाया जाता है। प्रायः हिंदुओं द्वारा मनाए जाने वाले इस पर्व को इस्लाम सहित अन्य धर्मावलंवी भी मनाते देखे गए हैं। धीरे …

Read More »

धनतेरस उद्धरण और सन्देश विद्यार्थियों के लिए

धनतेरस उद्धरण और सन्देश Dhanteras Quotes & SMS in Hindi

धनतेरस उद्धरण और सन्देश विद्यार्थियों के लिए: जिस प्रकार देवी लक्ष्मी सागर मंथन से उत्पन्न हुई थी उसी प्रकार भगवान धनवन्तरि भी अमृत कलश के साथ सागर मंथन से उत्पन्न हुए हैं। देवी लक्ष्मी हालांकि की धन देवी हैं परन्तु उनकी कृपा प्राप्त करने के लिए आपको स्वस्थ्य और लम्बी आयु भी चाहिए यही कारण है दीपावली दो दिन पहले …

Read More »

दिवाली उद्धरण और सन्देश विद्यार्थियों और बच्चों के लिए

दिवाली उद्धरण और सन्देश Diwali Quotes & SMS in Hindi

दिवाली उद्धरण और सन्देश विद्यार्थियों और बच्चों के लिए: दिवाली या दीपावली अर्थात “रोशनी का त्योहार” शरद ऋतु (उत्तरी गोलार्द्ध) में हर वर्ष मनाया जाने वाला एक प्राचीन हिंदू त्योहार है। दिवाली भारत के सबसे बड़े और प्रतिभाशाली त्योहारों में से एक है। यह त्योहार आध्यात्मिक रूप से अंधकार पर प्रकाश की विजय को दर्शाता है। भारत वर्ष में मनाए …

Read More »

माँ और मातृत्व पर उद्धरण विद्यार्थियों और बच्चों के लिए

माँ और मातृत्व पर उद्धरण - Famous Hindi Quotes on Mother & Motherhood

माँ और मातृत्व पर उद्धरण विद्यार्थियों और बच्चों के लिए: माँ एक अनुभूति, एक विश्वास, एक रिश्ता नितांत अपना सा। गर्भ में अबोली नाजुक आहट से लेकर नवागत के गुलाबी अवतरण तक, मासूम किलकारियों से लेकर कड़वे निर्मम बोलों तक, आँगन की फुदकन से लेकर नीड़ से सरसराते हुए उड़ जाने तक, माँ मातृत्व की कितनी परिभाषाएँ रचती है। स्नेह, …

Read More »