Home » Tag Archives: Children Poems for Children (page 2)

Tag Archives: Children Poems for Children

बचपन: Short Hindi Poetry about Childhood

बचपन - वंश - Short Hindi Poetry about Childhood

बचपन जीवन का बहुत ही महत्वपूर्ण समय होता है। इसमें इतनी चंचलता और मिठास भरी होती है कि हर कोई फिर से इसे जीना चाहता है। बचपन में वह धीरे-धीरे चलना, गिर पड़ना और फिर से उठकर दौड़ लगाना बहुत याद आता है। पिताजी के कंधे पर बैठकर मेला देखने का जो मजा होता था वह अब नहीं आता है। …

Read More »

बचपन ही अच्छा था: WhatsApp से ली गयी कविता

बचपन ही अच्छा था

हम अक़सर कहते हैं, बचपन ही अच्छा था। कोई बड़ी परेशानी आती है और हमें किसी कारणवश उसका समाधान नहीं मिलता, तो यही भावना आती है, ‘बचपन ही अच्छा था’। अगर मैं अपनी बात करूं, तो मुझे तो कभी-कभी बच्चों से जलन भी होने लगती है। बचपन ही अच्छा था: WhatsApp से ली गयी कविता पूरी स्कूल लाईफ में सुबह˗सुबह …

Read More »

बचपन: बाल दिवस स्पेशल नटखट हिंदी कविता

बचपन - बाल दिवस स्पेशल - अवधेश गुप्ता

बचपन के दिन किसी भी व्यक्ति के जीवन के बड़े महत्वपूर्ण दिन होते हैं। बचपन में सभी व्यक्ति चिंतामुक्त जीवन जीते हैं। खेलने उछलने-कूदने, खाने-पीने में बड़ा आनंद आता है। माता-पिता, दादा-दादी तथा अन्य बड़े लोगों का प्यार और दुलार बड़ा अच्छा लगता हैं। हमउम्र बच्चों के साथ खेलना-कूदना परिवार के लोगों के साथ घूमना-फिरना बस ये ही प्रमुख काम …

Read More »

A Child in the Garden: Children’s Day Poem

Thought provoking poems about childhood: A Child in the Garden

Children’s Day is celebrated in India every year with great enthusiasm on 14th of November. It is celebrated by the teachers and students in the schools and colleges with great passion and excitement. It is celebrated with lots of events and activities performed by the kids. School buildings get decorated with multicolor paints, colorful balloons and other decorative materials. Children’s …

Read More »

Love Never Dies: Guru Nanak Devotional Poetry

Guru Nanak Jayanti Recipes: Gurpurab Recipes

‘Guru Nanak Dev Ji’ was born on 15 April 1469 at Rāi Bhoi Kī Talvaṇḍī, now called Nankana Sahib, near Lahore, Pakistan. He was the son of Kalyan Chand Das Bedi and Mata Tripta. His father was a patwari (accountant) for crop revenue in the village of Talwandi. Guru Nanak Dev was married to Mata Sulakkhani. Guru Nanak Dev Ji …

Read More »

It’s Halloween: Halloween Poetry For Kids

It’s Halloween - Harry Behn

Trick-or-Treating in the United States: Some American colonists celebrated Guy Fawkes Day, and in the mid-19th century large numbers of new immigrants, especially those fleeing the Irish Potato Famine in the 1840s, helped popularize Halloween. In the early 20th century, Irish and Scottish communities revived the Old World traditions of souling and guising in the United States. By the 1920s, …

Read More »

हिंदी दिवस Short Poem on Hindi Divas

हिंदी दिवस Short Poem on Hindi Divas

हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाया जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इस दिन भारत की संविधान सभा ने देवनागरी लिपि में लिखी गई हिंदू भाषा को भारत गणराज्य की आधिकारिक भाषा घोषित किया था। भारत की संविधान सभा ने 14 सितंबर 1949 को भारत गणराज्य की आधिकारिक भाषा के रूप में हिंदी को अपनाया। हालांकि इसे 26 …

Read More »

मेघ आये बड़े बन ठन के, सँवर के: सर्वेश्वर दयाल सक्सेना

मेघ आये बड़े बन ठन के, सँवर के - सर्वेश्वर दयाल सक्सेना

भारत में मॉनसून हिन्द महासागर व अरब सागर की ओर से हिमालय की ओर आने वाली हवाओं पर निर्भर करता है। जब ये हवाएं भारत के दक्षिण पश्चिम तट पर पश्चिमी घाट से टकराती हैं तो भारत तथा आसपास के देशों में भारी वर्षा होती है। ये हवाएं दक्षिण एशिया में जून से सितंबर तक सक्रिय रहती हैं। वैसे किसी …

Read More »

श्री गणेश चालीसा: Ganesh Chalisa Lyrics in Hindi

Lord Ganesha Chalisa in Hindi श्री गणेश चालीसा

Lord Ganesha is the son of Lord Shiva and the Divine Mother Parvati. Ganesh Chalisa (गणेश चालीसा) means “Forty verses (chaupais) on Ganesha. Lord Ganesh removes all obstacles and ensures success in human endeavors. He is an archetype of Wisdom and Beneficence. Ganesha removes all obstacles and ensures success in human endeavors. He is an archetype of Wisdom and Beneficence. …

Read More »

Verses on Lord Ganesha: Pillaarayaastakamu

Verses on Lord Ganesha - Pillaarayaastakamu

A legend explains why Ganesha is worshiped before any other deity or prior to any important event. It happened that Lord Shiva asked Kartikeya and Ganesha – his two sons – to circle the world and return. Kartikeya hurried off on his peacock, but Ganesha walked around Shiva and Parvati. He explained that for him, his parents constituted the world. …

Read More »