अप्रैल फूल - डॉ. मंजरी शुक्ला

अप्रैल फूल – डॉ. मंजरी शुक्ला

तभी एक दिन उसके स्कूल में “फ्लावर डे” प्रतियोगिता मनाने की घोषणा हुई। जिसमें बच्चो को अपने आप लगाये गए फूलों वाले पौधों को लाना था। मोनी ने यह सुनकर अपना नाम भी प्रतियोगिता में लिखवा दिया। मोनी ने बड़ी मेहनत से रंग-बिरंगे स्टोन लगाकर गमलों को बड़ी ही खूबसूरती से सजाया। इन्द्रधनुषी रंगों वाली प्लास्टिक की तितलियाँ लाकर फूलों पर बैठाई जो दूर से बिलकुल असली तितलियाँ लग रही थी। और फ्लावर डे के दिन पापा की गाड़ी में सारे गमले बड़ी ही सावधानी से रखकर स्कूल पहुँच गया। वहाँ पर बहुत सारे बच्चों के गमले पहले से ही रखे हुए थे। थोड़ी ही देर बाद प्रिंसिपल सर और सारे टीचर्स एक के बाद एक सभी छात्रों के पौधे चेक करने लगे। वे साथ साथ बच्चों से उन पौधों के बारे में पूछते भी जा रहे थे। कई छात्र ठीक से जवाब भी नहीं दे पा रहे थे क्योंकि प्रतियोगिता जीतने के चक्कर में उन्होंने बाज़ार से गमले खरीद लिए थे इसलिए उन्हें फूलों की देख रेख के बारे में कुछ भी मालूम नहीं था। पर जब मोनी की बारी आई तो शेरसिंह जो कि प्रिंसिपल थे, बहुत खुश हो गए। उन के साथ साथ सभी टीचर्स की आँखों में प्रशंसा के भाव साफ़ दिखाई दिए। इतने सुन्दर फूल उन्होंने और किसी भी गमले में नहीं देखे थे।

शेरसिंह ने मोनी से पौधों की देखभाल के बारे में कई सवाल पूछे जिन्हें उसने बड़े ही प्रसन्नता और उत्साह से बताया। जब उसने बताया कि किस तरह से उसने पहली बार पौधों पर कलियाँ देखी और फिर कब वो फूल बनी तो सब उसकी मासूमीयत पर हँस पड़े।

थोड़ी ही देर बाद शेरसिंह स्टेज पर पहुँचे और माइक पर बोले – “आज मैं सभी बच्चों का पेड़ और पौधों के लिए प्रेम देखकर बहुत खुश हूँ। हम सभी को यह बात समझनी चाहिए कि पेड़ और पौधों के नहीं रहने से पर्यावरण दूषित हो जाएगा। जब तक पृथ्वी पर पेड़ और पौधे हैं तभी तक हम लोगों का अस्तित्व हैं। ये सभी हवा और पानी का संचालन करने वाले जीवित यंत्र हैं। पर हमारे बच्चे यह बात समझते हैं इसलिए मुझे उन पर गर्व हैं। पर आज का प्रथम पुरस्कार मोनी को दिया जाता हैं क्योंकि उसने अपने पौधों को अपना दोस्त मानकर उनकी देखभाल की और उनसे उसे सच में बहुत प्यार हैं।

यह सुनकर मोनी ने अपने पापा की ओर देखा जो ख़ुशी के मारे अपने आँसूं पोंछ रहे थे। मोनी की आँखें भी नम हो गई। तालियों की गडगडाहट के बीच जब वह मंच पर जा रहा था तो उसने निश्चय किया कि घर लौटकर वह जम्बो दादा के पैर छूकर पिछले साल के पौधों को नुकसान पहुँचाने के लिए माफ़ी माँगेगा और अब से हर दोस्त के जन्मदिन पर उसे ढेर सारे फूलों वाले पौधे गिफ्ट में देगा ताकि सब बच्चे उस की तरह सच्चे दिल से पेड़ पौधों का महत्व समझे और उनसे प्यार करना सीखे। लौटते समय पापा ने मुस्कुरा क़र पूछा – “तो इस बार 1 अप्रैल को क्या करने का इरादा हैं”?

मोनी हँसते हुए बोला -“पापा अब तो इस दिन मैं हमेशा ढेर सारे पौधे लगाया करूँगा”।

और दोनों जोरों से खिलखिलाकर हँस दिए।

~ डॉ. मंजरी शुक्ला

आपको डॉ. मंजरी शुक्ला की यह कहानी “अप्रैल फूल” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

Maha Shivaratri Coloring Pages

Maha Shivaratri Coloring Pages For Students

Maha Shivaratri Coloring Pages For Students: Maha Shivaratri is a Hindu festival celebrated annually in …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *