Home » Quotations » Famous Hindi Quotes » जॉर्ज वाशिंगटन के अनमोल विचार विद्यार्थियों के लिए
George Washington Quotes in Hindi जॉर्ज वॉशिंगटन के अनमोल विचार

जॉर्ज वाशिंगटन के अनमोल विचार विद्यार्थियों के लिए

Name George Washington / जॉर्ज वाशिंगटन
Born February 22, 1732 Westmoreland County, Virginia, USA
Died December 14, 1799 (aged 67) Mount Vernon, Virginia, USA
Nationality American
Profession Planter, Military Officer, Surveyor
Achievement First President of the United States. Served as the commander-in-chief of the Continental Army during the American Revolutionary War.
George Washington Quotes in Hindi जॉर्ज वाशिंगटन के अनमोल विचार: जार्ज वाशिंगटन संयुक्त राज्य अमेरिका के पहले राष्ट्रपति थे। उन्होंने अमेरिकी सेना का नेतृत्व करते हुए ब्रिटेन के ऊपर अमरीकी क्रान्ति (१७७५ – १७८३) में विजय हासिल की। उन्हें १७८९ में अमरीका का पहला राष्ट्रपति चुना गया। आज भी अमरीका में उनके नाम का सिक्का चलता है।

जॉर्ज वाशिंगटन के अनमोल विचार विद्यार्थियों और बच्चों के लिए

  • सभी के साथ विनम्र रहे, पर कुछ ही के साथ अन्तरंग हों और इन कुछ को अपना विश्वास देने से पहले अच्छी तरह परख लें।
  • बंदूकें महत्त्व में सिर्फ संविधान से कम होती हैं; वे लोगों की स्वतंत्रता का दांत होती हैं।
  • बिना प्रभु और बाइबिल के देश पर सही ढंग से शासन करना असंभव है।
  • यदि बोलने की स्वतंत्रता छीन ली जाये तो शायद गूंगे और मौन हम उसी तरह संचालित होंगे जैसे भेड़ को बलि के लिए ले जाया जा रहा हो।
  • मेरी माँ सबसे खूबसूरत औरत थीं जिसे मैंने कभी देखा। मैं जो भी हूँ अपनी माँ की वजह से हूँ। मैं अपने जीवन में मिली सभी सफलता का श्रेय उनसे मिली नैतिक, बौद्धिक और शारीरिक शिक्षा को देता हूँ।
  • सरकार तर्कपूर्ण नहीं है, वह सुवक्ता नहीं है; वह ताकत है। आग की तरह, वह एक खतरनाक नौकर है और एक भयानक मालिक।
  • प्रसन्नता और नैतिक कर्तव्य एक दूसरे से पूरी तरह से जुड़े हुए हैं।
  • यदि आप अपनी प्रतिष्ठा का सम्मान करते हैं तो अच्छे गुडों की बजाये संपन्न लोगों के साथ जुड़िये; क्योंकि बुरी संगत में रहने से अच्छा अकेले रहना है।
  • वह समय बहुत नज़दीक है जो तय करेगा कि अमेरिकी स्वतंत्र होंगे या गुलाम।
  • दिखावटी देशभक्ति के पाखण्ड से बचिए।
  • यदि हम अपमान से बचना चाहते हैं तो हमें उसे झटकना आना चाहिए; यदि हम शांति बांये रखना चाहते हैं, जो कि हमारी बढती समृद्धि का एक बेहद महत्त्वपूर्ण उपकरण है, तो ये ज़रूर पता होना चाहिए कि हम हर समय युद्ध के लिए तैयार हैं।
  • सच्ची दोस्ती धीमी गति से उगने वाला पौधा है और कोई इस पदवी का हकदार बने उससे पहले उसे विपत्ति के झटको से गुजरना और उन्हें सहना होगा।
  • अनुभव हमें सिखाता है कि कब्ज़ा जमाने के बाद दुश्मन को हटाने की तुलना में उसे कब्ज़ा करने से रोकना कहीं आसान है।
  • बुरी संगत में रहने से अच्छा अकेले रहना है।
  • चलिए एक ऐसा मानक बनाएं जिसपर बुद्धिमान और ईमानदार चल सकें; बाकि भगवान् के हाथ में है।
  • अपने ह्रदय में उस दीव्य चिंगारी – जिसे अंतरात्मा कहते हैं – को जिंदा रखने के लिए मेहनत करो।
  • सभी देशों के प्रति अच्छी भावना और न्याय रखें। सभी के साथ शांति और सद्भाव स्थापित करें।
  • जहाँ सत्य उजागर करने के लिए कष्ट उठाया जाता है वहां अंततः सत्य की जीत होती है।
  • मानवजाति, अगर अपने आप पर छोड़ दी जाए तो खुद पर भी शासन करने के अयोग्य है।
  • जब हमने सैनिकों की कल्पना की तो हमने नागरिकों को एक तरफ नहीं रख दिया।
  • चिंता उन लोगों द्वारा भुगतान किया ब्याज है जो उधार में मुसीबत लेते हैं।
  • स्वतंत्रता जब अपनी जड़ जमाने लगती है तो एक तेजी से बढ़ने वाले पौधे के सामान हो जाती है।
  • बेकार का बहाना बनाने से अच्छा है कोई बहाना ना बनाना।
  • काम के आदमी के साथ आपकी बात संक्षिप्त और व्यापक होनी चाहिए।
  • किसी भी तरह की सरकार के अंतर्गत ज़रुरत से बड़ी सेना स्वतंत्रता के लिए अशुभ है और ख़ास तौर से गणतंत्रवादी स्वतंत्रता के लिए शत्रुतापूर्ण मानी जानी चाहिए।
  • युद्ध के लिए तैयार रहना शांति बनाये रखने के सबसे प्रभावी साधनों में से एक है।
  • अपने हृदय को हर किसी की वेदना और संकटों को महसूस करने दीजिये और अपने हाथों को अपने बटुए के हिसाब से देने दीजिये।
  • कोसना और कसम खाना इतना तुच्छ और गिर हुआ काम है कि कोई भी समझदार और चरित्रवान व्यक्ति इससे घृणा करता है।
  • हमारी राजनीतिक व्यवस्था का आधार लोगों का अपनी सरकार के संविधान को बदलने का अधिकार है।
  • कुछ लोगों में ही सबसे ऊँची बोली लगाने वाले से बचने का गुण होता है।
  • संविधान वो मार्गदर्शक है जिसे मैं कभी नहीं छोडूंगा।
  • मैं सिर्फ ये कह सकता हूँ कि कोई ऐसा जीवित व्यक्ति नहीं है जो मुझसे अधिक ईमानदारी से दास-प्रथा का अंत करने की योजना को अपनाने की इच्छा रखता है।
  • मेरी पहली इच्छा मानवजाति के प्लेग, युद्ध को इस धरती से ख़त्म करने की है।
  • किसी दिन संयुक्त राज्य अमेरिका का उदाहरण अपनाते हुए, संयुक्त राज्य यूरोप होगा।
  • अनुशासन सेना की आत्मा है। यह छोटी संख्या को भयंकर बना देती है; कमजोरों को सफलता और सभी को सम्मान दिलाती है।
  • मैंने देखा है कि जब कभी भी किसी काम को करने के लिए एक आदमी पर्याप्त है… तो दो व्यक्तियों द्वारा वो बदतर तरीके से होता है, और अगर तीन या अधिक लोग लगा दिए जाएं तो शायद ही पूरा हो पाता है।
  • न्याय का प्रबंध सरकार का सबसे मजबूत स्तम्भ है।

Check Also

Independence Day of India

Independence Day Slogans For Students

In India, every year independence day is celebrated on 15th August, on this day India …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *