Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » Yoga Diwas Hindi Poem योग दिवस
Yoga Diwas Hindi Poem योग दिवस

Yoga Diwas Hindi Poem योग दिवस

कहाँ खोई प्रतिभा लौट के आई,
भारत को पहचान दिलाई,
विश्व ने माना योग का लोहा,
योग ने दुनिया का मन मोहा,
अफसर हो या चपरासी,
चाहे कितनी आपाधापी,
उठी प्रेम से सबकी नज़र,
योग ने किया बेहतरीन सफर,

आसन हो या प्राणायाम,
कूदते फांदते करते व्यायाम,
सड़क पे उतरी सरकार,
“स्वस्थ विश्व” सपना होता साकार,
योग ने दिया भारत को पहचान,
गौरव बढा मिला सम्मान,
बड़ी उपलब्धि मिली है हमको,
कामना; स्वस्थ शरीर मिले सब को,

अमर रहे ये योग दिवस,
विश्व को उत्तम दे भारत बस,
विरोध, बखेरा छोछि राजनीति,
न बदले इससे देश की नीति,
नियम योग से चला इन्सान,
फ्री में पाई सोने कि खान,
बीमारी गायब तनाव मुक्त,
मुस्काहट से चेहरा रहे युक्त,

सिगरेट सी टागैं सूधरी ठीक,
योग से होते सारे ठीक,
दुनिया का आभार व्यक्त,
सभी बने स्वस्थ सशक्त,
सदियों से भारत की पहचान
विश्व बन्धुत्व हमारी जान,
शांति अहिंसा प्रेम अगली बार,
ये आदर्श जीने का सार,
सरकार धन्यबाद की पात्र,
ये तो केवल अच्छी शुरुआत मात्र

~ अर्चना व राज

आपको यह कविता “योग दिवस” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

Father's Day Coupon Ideas: Coupon Ideas For Fathers Day

Fathers Day Coupon Ideas For Students

Fathers day is just around the corner! Now, you have started on one of the …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *