Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » विज्ञान विद्यार्थी का प्रेम गीत – धर्मेंद्र कुमार सिंह

विज्ञान विद्यार्थी का प्रेम गीत – धर्मेंद्र कुमार सिंह

अवकलन समाकलन
फलन हो या चलन­कलन
हरेक ही समीकरण
के हल में तू ही आ मिली।

घुली थी अम्ल क्षार में
विलायकों के जार में
हर इक लवण के सार में
तू ही सदा घुली मिली।

घनत्व के महत्व में
गुरुत्व के प्रभुत्व में
हर एक मूल तत्व में
तू ही सदा बसी मिली।

थी ताप में थी भाप में
थी व्यास में थी चाप में
हो तौल में कि माप मे
सदा तू ही मुझे मिली।

तुझे ही मैनें था पढ़ा
तेरे सहारे ही बढ़ा
हूं आज भी वहीं खड़ा
जहां मुझे थी तू मिली।

∼ धर्मेंद्र कुमार सिंह

About Kids4Fun

Check Also

Scorpio

Scorpio Weekly Horoscope April 2018: Anupam V Kapil

Scorpio Weekly Horoscope (October 23 – November 21) Scorpio, with the symbol of ‘The Scorpion’, …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *