उपवन – गोविन्द भारद्वाज

Upvanफूल खिलें हैं उपवन में,
रंग – बिरंगे मधुबन में।

छवि फूलों की न्यारी है,
महकी क्यारी – क्यारी है।

भँवरे – तितली डोले हैं,
चुपके – चुपके बोले हैं।

मखमल जैसी दूब लगे,
प्यारी लेटी धुप लगे।

महक बसी है धड़कन में,
फूल खिलें हैं उपवन में।

∼ गोविन्द भारद्वाज

Check Also

Rashifal

साप्ताहिक राशिफल जुलाई 2020 सद्गुरु स्वामी आनंदजी

साप्ताहिक राशिफल 06 – 12 जुलाई, 2020 राशियाँ राशिचक्र के उन बारह बराबर भागों को …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *