Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » ठुकरा दो या प्यार करो – सुभद्रा कुमारी चौहान

ठुकरा दो या प्यार करो – सुभद्रा कुमारी चौहान

देव! तुम्हारे कई उपासक कई ढंग से आते हैं
सेवा में बहुमूल्य भेंट वे कई रंग की लाते हैं।

धूमधाम से साज-बाज से वे मंदिर में आते हैं
मुक्तामणि बहुमुल्य वस्तुऐं लाकर तुम्हें चढ़ाते हैं।

मैं ही हूँ गरीबिनी ऐसी जो कुछ साथ नहीं लाई
फिर भी साहस कर मंदिर में पूजा करने चली आई।

धूप-दीप-नैवेद्य नहीं है झांकी का श्रृंगार नहीं
हाय! गले में पहनाने को फूलों का भी हार नहीं।

कैसे करूँ कीर्तन, मेरे स्वर में है माधुर्य नहीं
मन का भाव प्रकट करने को वाणी में चातुर्य नहीं।

नहीं दान है, नहीं दक्षिणा खाली हाथ चली आई
पूजा की विधि नहीं जानती, फिर भी नाथ चली आई।

पूजा और पुजापा प्रभुवर इसी पुजारिन को समझो
दान-दक्षिणा और निछावर इसी भिखारिन को समझो।

मैं उनमत्त प्रेम की प्यासी हृदय दिखाने आई हूँ
जो कुछ है, वह यही पास है, इसे चढ़ाने आई हूँ।

चरणों पर अर्पित है, इसको चाहो तो स्वीकार करो
यह तो वस्तु तुम्हारी ही है ठुकरा दो या प्यार करो।

∼ सुभद्रा कुमारी चौहान

About Subhadra Kumari Chauhan

सुभद्रा कुमारी चौहान का जन्म नागपंचमी के दिन १६ अगस्त १९०४ को इलाहाबाद (उत्तरप्रदेश) के निकट निहालपुर गाँव में एक सम्पन्न परिवार में हुआ था। सुभद्रा कुमारी को बचपन से ही काव्य-ग्रंथों से विशेष लगाव व रूचि था। आपका विद्यार्थी जीवन प्रयाग में ही बीता। अल्पायु आयु में ही सुभद्रा की पहली कविता प्रकाशित हुई थी। सुभद्रा और महादेवी वर्मा दोनों बचपन की सहेलियाँ थीं। सुभद्रा कुमारी का विवाह खंडवा (मद्य प्रदेश) निवासी ‘ठाकुर लक्ष्मण सिंह’ के साथ हुआ। पति के साथ वे भी इलाहाबाद में महात्मा गांधी के १९२१ के असहयोग आंदोलन से जुड़ गईं और राष्ट्र-प्रेम पर कविताएं करने लगी। १५ फरवरी १९४८ को मात्र ४३ वर्ष की अवस्था में र्भाग्यवश एक सड़क दुर्घटना में आपका निधन हो गया। इनकी रचनाएँ हैं — काव्य संग्रह : ‘मुकुल’ (१९३० में प्रकाशित हुआ) और ‘त्रिधारा'। कहानी संकलन : ‘सीधे-सादे चित्र’, ‘बिखरे मोती’ और ‘उन्मादिनी’ । ‘झाँसी की रानी इनकी बहुचर्चित रचना है। इन्हें ‘मुकुल तथा ‘बिखरे मोती पर अलग-अलग सेकसरिया पुरस्कार मिले।

Check Also

Diwali Greetings

Diwali Greetings For Students And Children

Diwali Greetings: Being the festival of lights, Diwali in India is a holy tradition and it symbolizes …

One comment

  1. Can you translate to English so people can read the English words but Hindi words will be said.
    Eg: Dev! Tumhare kayi upasak, kayi dhang se aate he

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *