हिंदी दिवस Short Poem on Hindi Divas

हिंदी दिवस Short Poem on Hindi Divas

हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाया जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इस दिन भारत की संविधान सभा ने देवनागरी लिपि में लिखी गई हिंदू भाषा को भारत गणराज्य की आधिकारिक भाषा घोषित किया था।

भारत की संविधान सभा ने 14 सितंबर 1949 को भारत गणराज्य की आधिकारिक भाषा के रूप में हिंदी को अपनाया। हालांकि इसे 26 जनवरी 1950 को देश के संविधान द्वारा आधिकारिक भाषा के रूप में इस्तेमाल करने के विचार को मंजूरी दी गई। हिंदी को आधिकारिक भाषा के रूप में इस्तेमाल करने के दिन को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है। आपकी परीक्षा में इस विषय के साथ आपकी सहायता करने के लिए यहां हिंदी दिवस पर अलग-अलग निबंध उपलब्ध कराए गये हैं। आप अपनी ज़रूरत के अनुसार किसी भी हिंदी भाषा के निबंध का चयन कर सकते हैं।

निष्कर्ष

जहाँ अंग्रेजी एक विश्वव्यापी भाषा है और इसके महत्व को अनदेखा नहीं किया जा सकता है वहीँ हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि हम पहले भारतीय हैं और हमें हमारी राष्ट्रीय भाषा का सम्मान करना चाहिए। आधिकारिक भाषा के रूप में हिंदी को अपनाने से साबित होता है कि सत्ता में रहने वाले लोग अपनी जड़ों को पहचानते हैं और चाहते हैं कि लोगों द्वारा हिंदी को भी महत्व दिया जाए।

हिंदी दिवस: बाल-कविता

वैसे तो हर वर्ष बजता है नगाड़ा,
नाम लूँ तो नाम है हिंदी पखवाड़ा।

हिंदी हैं हम, वतन है हिन्दुस्तान हमारा,
कितना अच्छा व कितना प्यारा है ये नारा।

हिंदी में बात करें तो मूर्ख समझे जाते हैं,
अंग्रेजी में बात करें तो जैंटलमेल हो जाते।

अंग्रेजी का हम पर असर हो गया,
हिंदी का मुश्किल सफ़र हो गया।

देसी घी आजकल बटर हो गया,
चाकू भी आजकल कटर हो गया।

अब मैं आपसे इज़ाज़त चाहती हूँ,
हिंदी की सबसे हिफाज़त चाहती हूँ।।

~ दिविशा तनेजा St. Gregorios School, Gregorios Nagar, Sector 11, Dwarka, New Delhi

Check Also

Football - Fred Babbin

Football Poem For Students And Children

A football is a ball inflated with air that is used to play one of …

7 comments

  1. Poem is very nice and good but it may be bigger than it was very nice. Poem is outstanding. Thanks You!

  2. Great poem really i love it

  3. What a nice poem it is!

  4. I loved this poem Ma’am I just wanna thank you for this lovely poem also I would love to say this poem on 14th sep on stage so ma’am thank you very much….

  5. Great Sir! Very nice poem. Thanks for this!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *