Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » शीशे का घर – श्रीकृष्ण तिवारी

शीशे का घर – श्रीकृष्ण तिवारी

जब तक यह शीशे का घर है
तब तक ही पत्थर का डर है
आँगन–आँगन जलता जंगल
द्वार–द्वार सर्पों का पहरा
बहती रोशनियों में लगता
अब भी कहीं अँधेरा ठहरा।

जब तक यह बालू का घर है
तब तक ही लहरों का डर है
टहनी–टहनी टंगा हुआ है
जख्म भरे मौसम का चेहरा
गलियों में सन्नाटा पसरा।

जब तक यह काज़ल का घर है
तब तक ही दागों का घर है
धरती पल–पल दहक रही है
जर्रा–जर्रा पिघल रहा है
चांद सूर्य को कोई अजगर
धीरे–धीरे निगल रहा है।

जब तक यह बारूदी घर है
तब तक चिनगारी का डर है।

∼ श्रीकृष्ण तिवारी

About Kids4Fun

Check Also

The Buddha At Kamakura - Rudyard Kipling English Poem

The Buddha At Kamakura: Rudyard Kipling Poem For Students & Children

Rudyard Kipling was born on December 30, 1865, in Bombay, India. He was educated in …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *