विद्यालय मैगजीन से हिंदी बाल-कविताएँ

गुरु: प्रभलीन कौर

गुरु अनहद का नाद है, गुरु बोध का स्वाद है।
गुरु शरणागत की शक्ति है, गुरु स्नेह की पवित्र धारा है।।

गुरु बेसहारों का सहारा है, गुरु अनंत कृपाओं का सागर है।
गुरु अनुभव की छलकती गागर है, गुरु नवजीवन की भोर है।।

गुरु प्रेम की सुंदर डोर है, गुरु सत्य का सुखद स्पर्श है।
गुरुदेव है, गुरु ग्रन्थ है, गुरु ही सच्चा पंख है।।

~ प्रभलीन कौर (नवमीं-सी) St. Gregorios School, Sector 11, Dwarka, New Delhi

भूल: वंश सेठी

जो कोई भूल न करे, उसे भगवान कहते हैं।

जो भूल से बनता हैं, उसे इंसान कहते हैं।

जो भूलकर भूल जाए, उसे नादान कहते हैं।

जो भूल पर भूल करें, उसे असावधान कहते हैं।

जो भूलकर भूल से सीखे, उसे बुद्धिमान कहते हैं।

~ वंश सेठी (आठवीं-सी) St. Gregorios School, Sector 11, Dwarka, New Delhi

भारत देश महान: यशिका

भारत देश महान हमारा, दुनिया की आँखों का तारा।
इसमें बुद्धि ज्ञान-विज्ञान, और संस्कृति बड़ी महान।।

सारा जग जाने ये बात, बरसों से माने ये बात।
है हर बात में नंबर वन, जा पहुँचा है मंगल पर।।

आओ इसको स्वच्छ बनाएँ, तारों-सा इसको चमकाएँ।
दूर करें सारा प्रदूषण, न्याय अपना देश बनाएँ।।

~ यशिका (चौथी-ए) St. Gregorios School, Sector 11, Dwarka, New Delhi

आपको विद्यालय मैगज़ीन से हिंदी बाल-कविताएँ कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

About St. Gregorios School, Sector 11, Dwarka, New Delhi: St. Gregorios School, an unaided Christian Minority School established in 1981 under the aegis of the Gregorian Orthodox Church Society, Janakpuri, New Delhi has dedicated to the sacred memory of St. Gregorios the great reformer and the Saint of Indian Orthodox Church.

The school is recognized by the Government of NCT of Delhi and affiliated to Central Board of Secondary Education, New Delhi.

Check Also

Short English Poetry about Thanksgiving: Over The River

Over The River: Thanksgiving Poem For Kids

Over The River: Poem by Linda Maria Child Over the river and through the wood …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *