Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » सांता आओ: क्रिसमस पर बाल-कविता
Inspirational Christmas Hindi Poem for Children सांता आओ

सांता आओ: क्रिसमस पर बाल-कविता

सांता आओ सांता आओ
शांति और खुशहाली लाओ
चॉकलेट टॉफियां हुई पुरानी
देश प्रेम का सन्देश लाओ

सांता आओ सांता आओ
शांति और खुशहाली लाओ
आतंकवाद बढ़ा है देश में
उसको दूर भगाओ

सांता आओ सांता आओ
शांति और खुशहाली लाओ
न्यारी प्यारी दुनिया सारी
आतंकवाद से बिगड़ रही है
सबको प्यार का पाठ पढ़ाओ

सांता आओ सांता आओ
शांति और खुशहाली लाओ

शिवांगी गोस्वामी [रॉयन इंटरनेशनल स्कूल, कक्षा – ५ ‘अ’ – जयपुर, राजस्थान]

सांता क्लॉज़ को सेंट निकोलस, फादर क्रिसमस (क्रिसमस के जनक), क्रिस क्रिंगल, या सिर्फ “सांता ” के नाम से जाना जाता है। पौराणिक और ऐतिहासिक दृष्टि से वे लोक कथाओं में प्रचलित एक व्यक्ति हैं। कई पश्चिमी संस्कृतियों में ऐसा माना जाता है कि सांता क्रिसमस की पूर्व संध्या, यानि 24 दिसम्बर की शाम या देर रात के समय के दौरान अच्छे बच्चों के घरों में आकर उन्हें उपहार देता है। सांता की आधुनिक आकृति की व्युत्पत्ति सिंटरक्लास की डच आकृति से हुई, जिसे संभवतया उपहार देने वाले सेंट निकोलस से सम्बंधित माना जाता है। सेंट निकोलस एक ऐसी ऐतिहासिक आकृति हैं, जो हेगिओग्राफिकल कहानियों में मिलती है। इसी से लगभग मिलती जुलती एक कहानी बीजान्टिन और यूनानी लोककथाओं में प्रचलित है, बेसिल ऑफ़ केसारिया (Basil of Caesarea). 1 जनवरी को ग्रीस में बेसिल का फीस्ट दिवस मनाया जाता है, इस दिन तोहफों का आदान प्रदान किया जाता है।

सांता क्लॉज़ को आम तौर पर एक मोटे, हंसमुख सफ़ेद दाढ़ी वाले आदमी के रूप में चित्रित किया जाता है, जो सफ़ेद कॉलर और कफ़ वाला लाल कोट पहनता है, इसके साथ वह चमड़े की काली बेल्ट और बूट पहनता है (उनकी कुछ छवियों में दाढ़ी होती है लेकिन मूंछ नहीं)। यह छवि संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा में 19 वीं सदी में लोकप्रिय हो गयी। इस छवि को लोकप्रिय बनाने में तत्कालीन राजनीतिक कार्टूनिस्ट थॉमस नास्ट ने महत्वपूर्ण योगदान दिया। गानों, रेडियो, टेलिविज़न, बच्चों की किताबों और फिल्मों के माध्यम से इस छवि को बनाये रखा गया है। संयुक्त राष्ट्र और यूरोप में, उन्हें अक्सर अमेरिकी सांता क्लॉज़ के रूप में चित्रित किया जाता है, परन्तु उन्हें अक्सर फादर क्रिसमस कहा जाता है।

सांता क्लॉज़ से जुडी एक प्रसिद्द लोककथा के अनुसार वह उत्तर में किसी दूर क्षेत्र में एक बर्फीले देश में रहता है। सांता क्लॉज़ के अमेरिकी संस्करण के अनुसार, वह उत्तरी ध्रुव में अपने घर में रहता है, जबकि अक्सर ऐसा कहा जाता है की फादर क्रिसमस फिनलैंड के लोपलैंड प्रान्त में कोरवातुन्तुरी के पहाड़ों में रहता है। सांता क्लॉज़ अपनी पत्नी श्रीमती क्लॉज़ के साथ रहता है। उसके साथ एक अनिर्दिष्ट परन्तु बड़ी संख्या में कल्पित बौने और कम से कम आठ या नौ उड़ने वाले रेन्डियर रहते हैं। एक और लोककथा जो गीत “सांता क्लॉज़ इस कमिंग टू टाउन” में प्रचलित है, के अनुसार वह पूरी दुनिया के बच्चों की एक सूची बनाता है, उन्हें उनके व्यवहार (“शरारती” और “अच्छे”) के अनुसार अलग अलग श्रेणियों में रखता है और क्रिसमस की पूर्व संध्या वाली रात, दुनिया के सभी अच्छे लड़कों और लड़कियों को खिलौने, केन्डी और अन्य उपहार देता है और कभी कभी शरारती बच्चों को कोयला देता है। इस काम के लिए वह अपने एक बौने की सहायता लेता है जो वर्कशॉप में उसके लिए खिलौने बनाता है और रेन्डियर उसकी गाड़ी को खींचता है।

Check Also

Sanskrit Poem on Importance of Yoga योगस्य महत्त्वम्

Sanskrit Poem on Importance of Yoga योगस्य महत्त्वम्

योगस्य महत्त्वम् योगः भारतस्य आधारः अस्ति। योगं विना वयं स्वस्थः सानन्दः च भवितुम नशक्नुमः। सर्वप्रथम महर्षि पतञ्जलिः योगसुक्तम् प्रतिपादितम। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *