Sant Kabir Devotional Composition साधो ये मुरदों का गाँव

साधो ये मुर्दों का गाँव: संत कबीर जी की हिन्दी कविता

Here is a famous composition of Saint Kabir Das, a nirguni saint of 15th century, who lived in Banaras. In the present composition Kabir points out how fleeting the life is. Be it a prophet, a King, divine personalities, common people, doctor and patients, all eventually die. This is indeed a world of dead people. The ultimate truth is the all-pervasive and everlasting Parmatma and nothing else real is there in the universe. This fleeting life is well spent only in our attempts to seek unity with this Ultimate.

साधो ये मुर्दों का गाँव!

पीर मरे, पैगम्बर मरि हैं,
मरि हैं ज़िन्दा जोगी,
राजा मरि हैं, परजा मरि हैं,
मरि हैं बैद और रोगी।
साधो ये मुर्दों का गाँव!

चंदा मरि है, सूरज मरि है,
मरि हैं धरणी आकासा,
चौदह भुवन के चौधरी मरि हैं
इन्हूँ की का आसा।
साधो ये मुर्दों का गाँव!

नौहूँ मरि हैं, दसहुँ मरि हैं,
मरि हैं सहज अठ्ठासी,
तैंतीस कोटि देवता मरि हैं,
बड़ी काल की बाज़ी।
साधो ये मुर्दों का गाँव!

नाम अनाम अनंत रहत है,
दूजा तत्व न होइ,
कहे कबीर सुनो भाई साधो
भटक मरो मत कोई।

~ संत कबीर

आपको “संत कबीर” यह कविता “साधो ये मुरदों का गाँव” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: manpreetmalik32@gmail.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

Diwali Festival Short English Poetry: Season of Lights

Season of Lights: Diwali Poem for Students

Season of Lights: Children’s Diwali Poem Dunes of vapors from crackers rise, Engulf, as odorous …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *