रंग दुनिया ने दिखाया है निराला देखूँ: कुमार विश्वास

रंग दुनिया ने दिखाया है निराला देखूँ: कुमार विश्वास

रंग दुनिया ने दिखाया है निराला, देखूँ,
है अँधेरे में उजाला, तो उजाला देखूँ
आइना रख दे मेरे हाथ में, आख़िर मैं भी,
कैसा लगता है तेरा चाहने वाला देखूँ,
जिसके आँगन से खुले थे मेरे सारे रस्ते,
उस हवेली पे भला कैसे मैं ताला देखूँ।

हर एक नदिया के होंठों पे समंदर का तराना है,
यहाँ फरहाद के आगे सदा कोई बहाना है,
वही बातें पुरानी थीं, वही किस्सा पुराना है,
तुम्हारे और मेरे बीच में फिर से ज़माना है।

Rang Duniya Ne Dikhaya Hai Nirala Dekhun

भ्रमर कोई कुमुदनी पे मचल बैठा तो हंगामा,
हमारे दिल में कोई ख़्वाब पल बैठा तो हंगामा,
अभी तक डूब के सुनते थे सब किस्सा मोहब्बत का,
मैं किस्से को हक़ीकत में बदल बैठा तो हंगामा।

बहुत बिखरा, बहुत टूटा, थपेडे़ सह नही पाया,
हवाओं के इशारों पे मगर मैं बह नहीं पाया,
अधूरा अनसुना ही रह गया यूँ प्यार का किस्सा,
कभी तुम सुन नही पाए, कभी मैं कह नही पाया।

कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है,
मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है,
मैं तुझसे दूर कैसा हूँ, तू मुझसे दूर कैसी है,
ये तेरा दिल समझता है, या मेरा दिल समझता है।

Kumar Vishwas is a well-known contemporary Hindi poet. He is also a leader of AAP party of Delhi.

~ कुमार विश्वास

आपको कुमार विश्वास जी की यह कविता “रंग दुनिया ने दिखाया है निराला देखूँ” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

Weekly Bhavishyafal

साप्ताहिक भविष्यफल अक्टूबर 2020

साप्ताहिक भविष्यफल 27 सितंबर – 03 अक्टूबर, 2020 Weekly Bhavishyafal भविष्यफल अक्टूबर 2020: पंडित असुरारी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *