Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » छोटी कक्षा के विद्यार्थियों के लिए बाल-कविताएँ
छोटी कक्षा के विद्यार्थियों के लिए बाल-कवितायेँ

छोटी कक्षा के विद्यार्थियों के लिए बाल-कविताएँ

बाल-कविता – इम्तिहान: नितिन शर्मा

इम्तिहान चालू हो गए बच्चों के
अब देर रात तक पढ़ते हैं,
भारी टैंशन पड़ गई सिर पर
न ही खेलते हैं न ही लड़ते हैं,

न खेलते हैं गेम फोन पर
न ही टी.वी. पर देखें डोरेमोन,
किताबों संग मारें माथा
रातों को लाइटें ऑन कर,

जो पढ़ा है पेपर में आए वही
बस यही रखते हैं आस बच्चे,
मैथ-इंगलिश से ऐसे डरते
होता है सांप जैसे कोई बड़ा,

गप्पें न चलनी पेपर में
जो याद किया वही लिखना होगा,
पंजाबी-हिंदी जैसे सब्जैक्ट
लगते हैं इन्हें बड़े ही नाइस,

तबियत बिगड़ जाए
जब भी पढनी पड़ जाए साइंस,
एग्जाम हॉल में बैठ कर बच्चे
भूल जाते हैं फिल्मी गीतों को,

प्रश्न पत्र जैसे ही मिलता
फटाफट भरते शीटों को,
जब इम्तिहान चालू हुए बच्चों के
अब देर रात तक पढ़ते हैं,

अब देर रात तक पढ़ते हैं,
टैंशन पड़ गई भारी सिर पर
न ही खेलते न ही लड़ते हैं।

~ नितिन शर्मा

Check Also

Our Christmas – Stephen Holland

Our Christmas: Poetry For Students And Children

Christmas came early for you and for meChristmas with no gifts to openChristmas without any …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *