Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » Inspirational Hindi Poem on Demonetisation नोट बंदी
Inspirational Hindi Poem on Denomitisation नोट बंदी

Inspirational Hindi Poem on Demonetisation नोट बंदी

जब से नोट बंदी हो गई है
सियासत और भी गंदी हो गई है।

सुना है कश्मीर भी सांसे ले रहा है
पत्थरों की आवाजें मन्दी हो गई है।

जो चिल्ला के हिसाब मांगते थे सरकार से
वही लोग रो रहे है जब पाबंदी हो गई है।

आपस में झगड़ते थे दुश्मनों की तरह
उन नेताओं में आजकल रजामंदी हो गई है।

वतन के बदलने का एहसास है मुझको
पर एक शख्स को हराने के लिए सियासत अंधी हो गई है।

~ संजय शर्मा

Check Also

Rajiv Gandhi - Biography

Rajiv Gandhi Biography For Students And Children

Born: Rajiv Ratna Gandhi – 20 August 1944 – Bombay, Bombay Presidency, British India Martyrdom: …

3 comments

  1. This is a nice poem, this will help me in Holiday homework.

  2. Awesome poem sir.
    May your power of poetry live long to motivate others too.?

  3. This is very nice poem & l like it

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *