Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » नए वर्ष में नयी पहल हो – सजीवन मयंक

नए वर्ष में नयी पहल हो – सजीवन मयंक

Naye Varsh Mein Nai Pahal Hoनए वर्ष में नई पहल हो।
कठिन ज़िंदगी और सरल हो॥

अनसुलझी जो रही पहेली।
अब शायद उसका भी हल हो॥

जो चलता है वक्त देखकर।
आगे जाकर वही सफल हो॥

नए वर्ष का उगता सूरज।
सबके लिए सुनहरा पल हो॥

समय हमारा साथ सदा दे।
कुछ ऐसी आगे हलचल हो॥

सुख के चौक पुरें हर द्वारे।
सुखमय आँगन का हर पल हो॥

∼ सजीवन मयंक

Check Also

बाला की दिवाली: गरीबों की सूनी दिवाली की कहानी

बाला की दिवाली: गरीबों की सूनी दिवाली की कहानी

“माँ… पटाखे लेने है मुझे” बाला ने दिवार के कोने में बैठे हुए कहा। “कहाँ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *