Motivational Hindi Poem on Blood Donation रक्तदान है महादान

रक्तदान है महादान: Hindi Poem on Blood Donation

रक्तदान है महादान: रक्तदान जीवनदान है। हमारे द्वारा किया गया रक्तदान कई जिंदगियों को बचाता है। इस बात का अहसास हमें तब होता है जब हमारा कोई अपना खून के लिए जिंदगी और मौत के बीच जूझता है। उस वक्त हम नींद से जागते हैं और उसे बचाने के लिए खून के इंतजाम की जद्दोजहद करते हैं।

अनायास दुर्घटना या बीमारी का शिकार हममें से कोई भी हो सकता है। आज हम सभी शिक्षि‍त व सभ्य समाज के नागरिक है, जो केवल अपनी नहीं बल्कि दूसरों की भलाई के लिए भी सोचते हैं तो क्यों नहीं हम रक्तदान के पुनीत कार्य में अपना सहयोग प्रदान करें और लोगों को जीवनदान दें।

यदि मध्यप्रदेश में रक्तदान के प्रतिशत की बात करें तो वर्ष 2006 में 56.2 प्रतिशत, वर्ष 2007 में 65.17 प्रतिशत, वर्ष 2008 में 68.75 प्रतिशत के लगभग रहा, जो कि संतोषप्रद है परंतु शत-प्रतिशत रक्तदान के आँकड़ों से हम अभी भी बहुत दूर है। आज भी कहीं न कहीं प्रदेश को रक्तदान में टॉप 5 राज्यों की दौड़ में शामिल होने के लिए इंतजार करना पड़ेगा। लेकिन यह इंतजार जल्दी ही खत्म हो सकता है अगर हम सभी संकल्प लें कि कम से कम स्वयं तो रक्तदान जरूर करेंगे।

देशभर में रक्तदान हेतु नाको, रेडक्रास जैसी कई संस्थाएँ लोगों में रक्तदान के प्रति जागरूकता फैलाने का प्रयास कर रही है परंतु इनके प्रयास तभी सार्थक होंगे, जब हम स्वयं रक्तदान करने के लिए आगे आएँगे और अपने मित्रों व रिश्तेदारों को भी इस हेतु आगे आने के लिए प्रेरित करेंगे।

रक्तदान है महादान: अंकित चमन भंडारी

रक्तदान है महादान नही कोई आम दान
रक्तदान है महादान।।

मिलता इससे नर को नव जीवन दान
मिलती उसके स्वप्नो को नव उमंग
देखे थे स्वप्न नर ने मातृभूमि की सेवा के
परन्तु दुर्घटनावश अधर में अटके हैं उसके प्राण
रक्त ने दिया उसे नव जीवन दान
रक्तदान है महादान नहीं कोई आम दान |1|

पूज्य स्वामी विवेकानन्द ने कहा
नर को तुम नारायण समझो
नर सेवा का व्रत लो महान
मातृभूमि की सेवा में
मातृभूमि की सेवा में अर्पित कर दो तन मन धन
मन में लो यह शपत महान कि खून की कमी से न निकले किसी के प्राण
रक्तदान है महादान नहीं कोई आम दान |2|

नेताजी सुभाष ने कहा
तुम मुझे खून दो में तुम्हे आजादी दूंगा
समय की मांग ने कहा
तुम उसी खून का दान दो मैं नव जीवन दूंगा
रक्तदान है महादान नहीं कोई आम दान |3|

हम सब हैं युवा शक्ति
निभाएं अपना कर्तव्य महान
करें हम सब मिल रक्तदान
रक्तदान है महादान नहीं कोई आम दान |4|

अंकित चमन भंडारी

आपको ‘अंकित चमन भंडारी’ जी की यह कविता कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

Related Links:

Check Also

Guru Gobind Singh Ji

Guru Gobind Singh Ji: English Poetry on 10th Sikh Guru

On a maiden day, in Patna, beneath the radiant sun, comes forth from the heavens, …

3 comments

  1. अच्छी कविता है, कई वर्ष पहले मैंने यह कविता एक रक्तदान कार्यक्रम के पूर्व युवाओं को प्रेरित करने के लिए लिखी थी | उस कार्यक्रम में मैंने इस कविता को प्रस्तुत किया था | अच्छा लगा यह देखकर की आपकी वेबसाइट पर मेरी इस कविता को दस हजार से अधिक बार देखा गया है |

    प्रणाम
    अंकित चमन भंडारी
    9717278782

    • विवेक जाधव

      अंकित जी आपकी इस कविता को पढकर मैने भी रक्तदान करने के बारे मे सोचा है! यह कविता बहुत ही प्रेरणादायी है! धन्यवाद

  2. Very nice – Raktadan Mahadan!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *