Mithai by Om Prakash Bajaj

मिठाई: ओम प्रकाश बजाज

बच्चे बूढ़े सबको,

या बनाए हलवाई।

लड्डू, बर्फी, पेड़ा, जलेबी,

मिठाई सब खाते है।

गुलाब जामुन, रसगुल्ला,

होती है मिठाई।

ओमप्रकाश बजाज

आपको ओमप्रकाश बजाज जी की यह कविता “मिठाई” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

Abhayanand & Anand Kumar Biography For Students

Abhayanand & Anand Kumar Biography For Students

Abhayanand & Anand Kumar – The Ashok Rajpath Street in Patna is where one can …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *