मेरी थकन उतर जाती है: रामावतार त्यागी

मेरी थकन उतर जाती है: रामावतार त्यागी

हारे थके मुसाफिर के चरणों को धोकर पी लेने से
मैंने अक्सर यह देखा है मेरी थकन उतर जाती है।

कोई ठोकर लगी अचानक
जब-जब चला सावधानी से,
पर बेहोशी में मंजिल तक
जा पहुँचा हूँ आसानी से;
रोने वाले के अधरों पर अपनी मुरली धर देने से
मैंने अक्सर यह देखा है, मेरी तृष्णा मर जाती है।

प्यासे अधरों के बिन परसे
पुण्य नहीं मिलता पानी को,
याचक का आशीष लिये बिन
स्वर्ग नहीं मिलता दानी को;
खाली पात्र किसी का अपनी प्यास बुझा कर भर देने से
मैंने अक्सर यह देखा है, मेरी गागर भर जाती है।

लालच दिया मुक्ति का जिसने
वह ईश्वर पूजना नहीं है,
बन कर वेदमंत्र-सा मुझको
मंदिर में गूँजना नहीं है;
संकटग्रस्त किसी नाविक को निज पतवार थमा देने से
मैंने अक्सर यह देखा है, मेरी नौका तर जाती है।

रामावतार त्यागी

आपको रामावतार त्यागी जी की यह कविता “मेरी थकन उतर जाती है” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

Rashifal

साप्ताहिक राशिफल जुलाई 2020 सद्गुरु स्वामी आनंदजी

साप्ताहिक राशिफल 06 – 12 जुलाई, 2020 राशियाँ राशिचक्र के उन बारह बराबर भागों को …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *