Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » मां, मेरी मां, प्यारी मां मम्मा: कैलाश खेर का दसविदानिया फिल्म से गीत
मां, मेरी मां, प्यारी मां मम्मा - कैलाश खेर Hindi Film Song on Mother

मां, मेरी मां, प्यारी मां मम्मा: कैलाश खेर का दसविदानिया फिल्म से गीत

Dasvidaniya (दसविदानिया) is a Bollywood film released on 7 November 2008. The name of the movie is a pun on the list of ten things to be done before death made by Vinay Pathak, and is a play on the Russian phrase до свидания (do svidaniya), meaning good bye.

Amar Kaul (Vinay Pathak) is a 37-year-old accounts manager at a company called Suraj Pharmaceuticals in Mumbai. He is single and lives with his mother (Sarita Joshi). He lives a nondescript life with people oblivious to his existence. One day his doctor tells him that he will die within three months. Realizing that his time is limited, Amar makes a list of ten things he wants to do during his life, and sets out to do them.

He finds the true joys of life in a few months which was hidden all his life. After three months, at the time of his death, he leaves something for all his near and dear ones, leaving all of them happy and thankful to him.

माँ, मेरी माँ, प्यारी माँ मम्मा
हो माँ, मेरी माँ, प्यारी माँ मम्मा
हाथों की लकीरें बदल जाएगी
गम की यह जंजीरे पिघल जाएगी
हो खुदा पे भी असर, तू दुआओं का है घर
मेरी माँ, मेरी माँ, प्यारी माँ मम्मा
हो माँ, मेरी माँ, प्यारी माँ मम्मा

बिगड़ी किस्मत भी संवर जायेगी
ज़िन्दगी तराने ख़ुशी के गाएगी
तेरे होते किसका डर, तू दुआओं का है घर
मेरी माँ, मेरी माँ, प्यारी माँ मम्मा
हो माँ, मेरी माँ, प्यारी माँ मम्मा

यूँ तो मैं सब से न्यारा हूँ
तेरा माँ मैं दुलारा हूँ
यूँ तो मैं सब से न्यारा हूँ
पर तेरा माँ मैं दुलारा हूँ
दुनिया मे जीने से ज्यादा उलझन है माँ
तू है अमर का जहा
तू गुस्सा करती है, बड़ा अच्छा लगता है
तू कान पकड़ती है, बड़ी जोर से लगता है, मेरी माँ

मेरी माँ, मेरी माँ, प्यारी माँ
हो माँ, मेरी माँ, प्यारी माँ मम्मा
हाथों की लकीरें बदल जाएगी
गम की यह जंजीरे पिघल जाएगी
हो खुदा पे भी असर, तू दुआओं का है घर
मेरी माँ, मेरी माँ, प्यारी माँ मम्मा
हो माँ, मेरी माँ, प्यारी माँ मम्मा

कैलाश खेर

Film: Dasvidaniya
Singer & Composer: Kailash Kher

Check Also

सारे जहां से अच्छा - मुहम्मद इक़बाल

सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा: मुहम्मद इक़बाल

This great poem was written by Allama Muhammad Iqbal, a great poet-philosopher and active political …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *