Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » लकड़ी की काठी काठी पे घोड़ा: गुलज़ार
लकड़ी की काठी काठी पे घोड़ा - गुलज़ार

लकड़ी की काठी काठी पे घोड़ा: गुलज़ार

लकड़ी की काठी काठी पे घोड़ा
घोड़े की दुम पे जो मारा हथौड़ा
दौड़ा दौड़ा दौड़ा घोड़ा दुम उठा के दौड़ा

घोड़ा पहुंचा चौक में चौक में था नाई
घोड़ेजी की नाई ने हज़ामत जो बनाई
टग-बग टग-बग टग-बग टग-बग
घोड़ा पहुंचा चौक…
दौड़ा दौड़ा दौड़ा घोड़ा दुम उठा के दौड़ा

Harman Malik - Indian Ethnic Wearघोड़ा था घमंडी पहुंचा सब्जी मंडी
सब्जी मंडी बरफ़ पड़ी थी बरफ़ में लग गई ठंडी
चग-बग चग-बग चग-बग चग-बग
घोड़ा था घमंडी…
दौड़ा दौड़ा दौड़ा घोड़ा दुम उठा के दौड़ा

घोड़ा अपना तगड़ा है देखो कितनी चरबी है
चलता है महरौली में पर घोड़ा अपना अरबी है
टग-बग टग-बग टग-बग टग-बग
घोड़ा अपना तगड़ा है…
बाँह छूड़ा के दौड़ा घोड़ा दुम उठा के डौड़ा

लकड़ी की काठी काठी पे घोड़ा
घोड़े की दुम पे जो मारा हथौड़ा
दौड़ा दौड़ा दौड़ा घोड़ा दुम उठा के दौड़ा

गुलज़ार

चित्रपट : मासूम (१९८३)
निर्देशक : शेखर कपूर
गीतकार : गुलज़ार
संगीतकार : आर. डी. बर्मन
गायक : गौरी बापट, गुरप्रीत कौर, वनिता मिश्रा
सितारे : नसीरुद्दीन शाह, शबाना आज़मी, सुप्रिया पाठक, सईद जाफरी, जुगल हंसराज, उर्मिला मातोंडकर, आराधना

Check Also

बाला की दिवाली: गरीबों की सूनी दिवाली की कहानी

बाला की दिवाली: गरीबों की सूनी दिवाली की कहानी

“माँ… पटाखे लेने है मुझे” बाला ने दिवार के कोने में बैठे हुए कहा। “कहाँ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *