Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » जहाँ डाल-डाल पर सोने की चिड़िया करती है बसेरा: राजेंद्र कृष्ण
जहाँ डाल-डाल पर सोने की चिड़िया करती है बसेरा: राजेंद्र कृष्ण

जहाँ डाल-डाल पर सोने की चिड़िया करती है बसेरा: राजेंद्र कृष्ण

राजेंद्र कृष्ण के गीतों का सफ़र

‘प्यार की शमा को तकदीर बुझाती क्यूं है किसी बर्बादे-मोहब्बत को सताती क्यूं है’। और 1948 में बनी फ़िल्म प्यार की जीत में क़मर जलालाबादी और राजेंद्र कृष्ण के गीत थे। राजेंद्र का यह गीत बहुत मकबूल हुआ ‘तेरे नैनों ने चोरी किया मेरा छोटा सा जिया परदेसिया’। 1948 में ‘बापू की यह अमर कहानी’ इस कदर मशहूर और मकबूल हो गया था कि 1949 की एक फ़िल्म का नाम ही अमर कहानी रख दिया गया और उसमें गीत लिखने की दावत राजेंद्र कृष्ण को ही दी गई। सुरैया की आवाज में इस फ़िल्म का यह गीत बहुत मकबूल हुआ ‘दीवाली की रात पिया घर आने वाले हैं सजन घर आने वाले हैं’। इसकी धुन हुस्नलाल भगतराम ने बनाई थी। इस फ़िल्म के और भी कई गीत मकबूल हुए; उनमें गीता दत्त की गाई एक गजल भी थी जिसका मतला इस तरह था ‘ये कैसी दिल्लगी है कहां का ये प्यार है कुछ ऐतबार भी नहीं कुछ ऐतबार है’। सुरैया की आवाज में राजेंद्र का यह गीत भी बहुत पसंद किया गया ‘उमंगों पर जवानी छा गई अब तो चले आओ तुम्हारी याद फिर तड़पा गई अब तो चले आ’’। 1949 में लाहौर और बड़ी बहन के ‘चुप चुप खड़े हो ज़रूर कोई बात है’, ‘चले जाना नहीं’ जैसे सुपरहिट गानों के साथ राजेंद्र जी अग्रिम पंक्ति के गीतकार बन गए। लाहौर में संगीत दिया था प्रख्यात निर्देशक श्यामसुंदर ने और राजेंद्र कृष्ण का यह गीत बेहद मकबूल हुआ ‘बहारें फिर भी आएंगी मगर हम तुम जुदा होंगे घटाएं फिर भी छाएंगी मगर हम तुम जुदा होंगे’। एक गीतकार के रूप में वह दीनानाथ मधोक और क़मर जलालाबादी के नजदीक पड़ते हैं जो मन की भावनाओं को सीधे-सच्चे शब्दों में और सादा अंदाज में कहने में यकीन रखते हैं और कोरी भावनाओं को कविता का साज-सिंगार पहनाने की चिंता नहीं करते। श्रोता तक उनकी कविता सुनते-सुनते ही संवेदित हो जाती है, उसे समझने और सराहने के लिए उसे कोशिश नहीं करनी पड़ती, कसरत का तो सवाल ही नहीं पैदा होता। बड़ी बहन के गीतों की लोकप्रियता का प्रमाण यह है कि बड़ी बहन के निर्माता ने खुश होकर गीतकार राजेंद्र कृष्ण को एक ऑस्टिन कार भेंट की और गीत लिखने के लिए एक हजार रु. माहवार पर नौकर रख लिया।1949 में आसूदाहाल लोग ही ऑस्टिन कार का सपना देखते थे और एक हजार प्रति माह की तनख्वाह अच्छी-खासी रकम हुआ करती थी। फिर तो राजेंद्र जी की गाडी चल पड़ी अलबेला, अनारकली, आज़ाद, भाई भाई, देख कबीरा रोया, छाया, पतंग, ब्लफ मास्टर, भरोसा, पूजा के फूल, खानदान आदि फ़िल्मों के लिए गाने लिखे और मशहूर हुए, इसके अलावा राजेंद्र जी तमिल बहुत अच्छे तरह से जानते थे सो 18 तमिल फ़िल्मो के लिए पटकथा और गाने भी लिखे।

जहाँ डाल-डाल पर सोने की चिड़िया करती है बसेरा

जहाँ डाल-डाल पर,
सोने की चिड़ियां करती है बसेरा,
वो भारत देश है मेरा…

जहाँ सत्य अहिंसा और धर्म का,
पग-पग लगता डेरा,
वो भारत देश है मेरा…

ये धरती वो जहां ऋषि मुनि,
जपते प्रभु नाम की माला,
जहां हर बालक एक मोहन है,
और राधा हर एक बाला,
जहां सूरज सबसे पहले आ कर,
डाले अपना फेरा,
वो भारत देश है मेरा…

अलबेलों की इस धरती के,
त्योहार भी है अलबेले,
कहीं दीवाली की जगमग है,
कहीं हैं होली के मेले,
जहां राग रंग और् हँसी खुशी का,
चारो और है घेरा,
वो भारत देश है मेरा…

जहां आसमान से बाते करते,
मंदिर और शिवाले,
जहां किसी नगर मे किसी द्वार पर,
को न ताला डाले,
प्रेम की बंसी जहां बजाता,
है ये शाम सवेरा,
वो भारत देश है मेरा…

जहाँ सत्य अहिंसा और धर्म का,
पग-पग लगता डेरा,
वो भारत देश है मेरा…

राजेंद्र कृष्ण

चित्रपट: सिकंदर-ए-आज़म (१९६५)
गीतकार: राजेंद्र कृष्ण
संगीतकार: हंसराज बहल
गायक: मोहम्मद रफ़ी
सितारे: पृथ्वीराज कपूर, दारा सिंह, मुमताज़

Check Also

Navratri Songs

Navratri Songs with lyrics: Navratri Videos

Navratri – the nine nights of worshiping, devotion and celebration – is observed throughout the …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *