Hullad Muradabadi Hasya Vyang Poem on Drinking पीने का बहाना

Hullad Muradabadi Hasya Vyang Poem on Drinking पीने का बहाना

हौसले को आज़माना चाहिये
मुशकिलों में मुसकुराना चाहिये

खुजलियाँ जब सात दिन तक ना रुकें
आदमी को तब नहाना चाहिये

साँप नेता साथ में मिल जाएँ तो
लट्ठ नेता पर चलाना चाहिये

सिर्फ चारे से तसल्ली कर गए
आपको तो देश खाना चाहिये!

जो इलैक्शन हार जाए क्या करे?
तिरुपति में सिर मुँडाना चाहिये

हाथ ही अब तक मिलाए आज तक
दोस्ती में दिल मिलाना चाहिये

आज फ़ीवर कल थकावट हो गई
रोज पीने का बहाना चाहिये

आशिकी में बाप जब बेहोश हो
पुत्र को जूता सुंघाना चाहिये

नींद आती ही नहीं जिस शस्ख को
टेप हुल्लड़ का सुनाना चाहिये

~ हुल्लड़ मुरादाबादी

आपको “हुल्लड़ मुरादाबादी” जी की यह कविता “पीने का बहाना” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

Janmashtami Cards: Krishnashtami Greetings

Janmashtami Cards: Krishnashtami Greetings

If you want to send Janmashtami Cards, read the article. Know how to send greeting …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *