Hindi Bal-Kavita telling Money can't buy everything पैसे कि सीमा

Hindi Bal-Kavita telling Money can’t buy everything पैसे की सीमा

पैसा किताब खरीद सकता है, विद्या नहीं।
पैसा साज़ खरीद सकता है, स्वर नहीं।

पैसा डॉक्टर खरीद सकता है, जीवन नहीं।
पैसा मूर्ति खरीद सकता है, भगवान नहीं।

पैसा शरीर खरीद सकता है, आत्मा नहीं।
पैसा कलम खरीद सकता है, सुलेख नहीं।

पैसा बिस्तर खरीद सकता है, नींद नहीं।
पैसा लड़का खरीद सकता है, बेटा नहीं।

पैसा आराम खरीद सकता है, चैन नहीं।
पैसा तलवार खरीद सकता है, साहस नहीं।

पैसा सब खरीद सकता है, जीवन नहीं।

~ करन चीब (पांचवी ‘ड’) St. Gregorios School, Gregorios Nagar, Sector 11, Dwarka, New Delhi

आपको “करन चीब” की यह कविता “पैसे की सीमा” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

Slogans on Books

Slogans on Books For Students

Slogans on Books: World Book Day or World Book and Copyright Day is a yearly …