Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » पंद्रह अगस्त: 1947 – गिरिजा कुमार माथुर की देश प्रेम हिंदी कविता
पंद्रह अगस्त: 1947 - गिरिजा कुमार माथुर

पंद्रह अगस्त: 1947 – गिरिजा कुमार माथुर की देश प्रेम हिंदी कविता

Here is a famous poem that was written by the well known poet Girija Kumar Mathur at the time when India got independence. The poem is still relevant today.

पंद्रह अगस्त: 1947 – गिरिजा कुमार माथुर

आज जीत की रात
पहरुए सावधान रहना!
खुले देश के द्वार
अचल दीपक समान रहना!

प्रथम चरण है नए स्‍वर्ग का
है मंज़िल का छोर
इस जन-मन्‍थन से उठ आई
पहली रत्‍न हिलोर
अभी शेष है पूरी होना
जीवन मुक्‍ता डोर
क्‍योंकि नहीं मिट पाई दुख की
विगत साँवली कोर

ले युग की पतवार
बने अम्‍बुधि महान रहना
पहरुए, सावधान रहना!

विषम शृँखलाएँ टूटी हैं
खुली समस्‍त दिशाएँ
आज प्रभंजन बन कर चलतीं
युग बन्दिनी हवाएँ
प्रश्‍नचिह्न बन खड़ी हो गईं
यह सिमटी सीमाएँ
आज पुराने सिंहासन की
टूट रही प्रतिमाएँ

उठता है तूफ़ान इन्‍दु तुम
दीप्तिमान रहना
पहरुए, सावधान रहना!

ऊँची हुई मशाल हमारी
आगे कठिन डगर है
शत्रु हट गया, लेकिन
उसकी छायाओं का डर है
शोषण से मृत है समाज
कमज़ोर हमारा घर है
किन्‍तु आ रही नई ज़िन्‍दगी
यह विश्‍वास अमर है

जन-गंगा में ज्‍वार
लहर तुम प्रवहमान रहना
पहरुए, सावधान रहना!

गिरिजा कुमार माथुर

गिरिजा कुमार माथुर का जन्म 22 अगस्त 1919  को गुना, मध्य प्रदेश में हुआ। स्वतंत्रता प्राप्ति के दिनों में हिंदी साहित्यकारों में जो उदीयमान कवि थे उनमें  ‘गिरिजा कुमार माथुर’ का नाम भी सम्मिलित है।

प्रारंभिक शिक्षा झाँसी, उत्तर प्रदेश में हुई और आपने लखनऊ विश्विद्यालय से एम.ए. अंग्रेज़ी व एल.एल.बी. की। कुछ समय तक वकालत की, तत्पश्चात् दिल्ली में आकाशवाणी में काम किया। फिर दुरदर्शन में भी काम किया और वहीं से सेवानिवृत हुए।

10 जनवरी 1994 को नई दिल्ली मे आपका निधन हो गया।

गिरिजाकुमार माथुर की समग्र काव्य यात्रा से परिचित होने के लिए उनकी पुस्तक “मुझे और अभी कहना है” अत्यंत महत्त्वपूर्ण है।

गिरिजा कुमार माथुर माथुर की प्रमुख रचनाएँ हैं – नाश और निर्माण, धूप के धान, शिलापंख चमकीले, भीतरी नदी की यात्रा, काव्य-संग्रह जन्म कैद (नाटक) नई कविता: सीमाएँ और संभावनाएँ (आलोचना)।

आपको “गिरिजा कुमार माथुर” जी की यह कविता “पंद्रह अगस्त: 1947” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

Check Also

A Loving Teacher

A Loving Teacher: Teachers Day English Poetry

A Loving Teacher Poetry by Pat McClain Things our grown-up mind defies Appear as giants in …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *