दोस्ती पर समर्पित हिंदी कविता: दोस्ती की मिसाल रखियेगा

दोस्ती पर समर्पित कविता: दोस्ती की मिसाल रखियेगा

दोस्ती पर कविता में पढ़िए एक दोस्त की जिंदगी में क्या अहमियत होती है। दोस्त ही तो वो शख्स होता है जिसके साथ हम अपने दिल की वो बातें कर सकते हैं जो हम किसी और से नहीं कर सकते। दोस्त एक मान की तरह प्यार देता है। पिता की तरह डांटता है और भाई की तरह ख्याल रखता है। ऐसा दोस्त हमें अपनी जान से भी प्यारा होता है। तो आइये पढ़ते हैं फ्रेंडशिप डे को समर्पित ऐसे ही एक दोस्त के लिए दोस्ती पर कविता:

दोस्ती की मिसाल रखियेगा: राजमूर्ति सिंह ‘सौरभ’

दोस्ती की मिसाल रखियेगा,
दुश्मनी कल पे टाल रखियेगा।

कहते कहते छलक पड़ी आँखें,
आप अपना ख्याल रखियेगा।

हर तरफ पत्थरों की बारिश है,
आईने को संभाल रखियेगा।

प्यार की पौध रोपिये लेकिन,
रात-दिन देखभाल रखियेगा।

तेज तूफान से बच निकलने की,
कोई सूरत संभाल रखियेगा।

ख्वाब में भी ना मेरी बातों का,
आप कोई मलाल रखियेगा।

उड़ ही जायेगा एक दिन सुगना,
लाख पहरे बिठाल रखियेगा।

राजमूर्ति सिंह ‘सौरभ’

दोस्ती एक ऐसा रिश्ता है जो इंसान को जन्म से नहीं मिलता बल्कि इसका चुनाव हम खुद करते है। यहां तक ​​कि जब इंसान को शादी शुदा संबंधों की कोई समझ नहीं थी, तब भी दोस्ती की यह भावना हमेशा मौजूद थी। यह केवल एक संबंध नहीं है बल्कि भरोसे, देखभाल, सम्मान और आनन्द की भावना एक अनूठा मिश्रण है। आज के समय में, जब लोगों को अपने काम से समय नहीं मिलता है, तो दोस्ती के महत्व को समझा जा रहा है। यह एक कारण है कि लोगों ने एक खास दिन को दोस्तों और दोस्ती को समर्पित करने के लिए चुना जिसे Friendship Day के नाम से जाना जाता है। 1935 में United States Congress ने National Friendship Day के रूप में अगस्त के पहले रविवार की घोषणा की। तब से दुनिया के बाकी हिस्सों में भी इस दिन को Friendship Day के रूप में मनाया जाता है।

Check Also

ऐ मेरे बेटे सुन मेरा कहना - साहिर लुधियानवी

ऐ मेरे बेटे सुन मेरा कहना: पितृ दिवस पर फ़िल्मी गीत

आ गले लग जा 1973 में बनी हिन्दी भाषा की प्रेमकहानी फ़िल्म है जिसका निर्देशन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *