Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » छोटा चूहा: पूर्णिमा वर्मन की हास्यप्रध बाल-कविता
छोटा चूहा: पूर्णिमा वर्मन की हास्यप्रध बाल-कविता

छोटा चूहा: पूर्णिमा वर्मन की हास्यप्रध बाल-कविता

चूहा एक स्तनधारी प्राणी है। यह साधारणतः सभी देशों में विशेषकर उष्ण देशों में पाया जाता है। यह कपड़ा, सूटकेश आदि को काटकर बहुत हानि पहुँचाता है। शरीर बालों से आवृत एवं सिर, गर्दन, धड़ तथा पूँछ में विभक्त होता है। ऊपरी एवं निचली ओठ से घिरा रहता है। सिर में एक जोड़ा नेत्र, दो बाह्यकर्ण, धड़ में दो जोड़े पैर तथा स्तन होते हैं। नेत्र के ऊपर तथा किनारे में लंबे और कड़े बाल, जिन्हें मूँछ कहते हैं, ये स्पर्शेन्द्रिय का काम करते हैं।

छोटा चूहा: पूर्णिमा वर्मन

Candy Wrap Mouseछोटा चूहा
नरम नरम सा
भूरा भूरा सा।
रेशम के धागों से जैसे
बना हुआ सा।

मोती सी चमकीली आँखें
इसने मुझको काट लिया था।

शायद वह यह भूल गया था
यह भी तो
मेरे कमरे में ही
रहता है।

Frightened Mouseमेरी ही गुड़िया के कपडे
और किताबें–
जातक कथा बेताल पचीसी
और पश्चिम की लोक कथाएँ
खा खा कर यह बड़ा हुआ है
और अभी भी विश्वकोश के
शब्दकोष के पन्नों को
कुतरा करता है
इसी तरह पला करता है।

Mighty Mouseमेरी नीली साड़ी का कोना काटा है
नये ट्राउजर्स में मेरे छेद कर दिया
मेरी नारंगी चुन्नी को
काट खा गया
ना जाने किस रोज शरारे की बारी है?

जाने दो इतना छोटा है
माफ़ कर दिया।
तन का जब इतना छोटा है
कहाँ इसे होगा दिमाग
की याद रख सके
कौन कहाँ किसकी चीजें हैं।
Almighty Mouseकेवल अपना पेट पालना
सीख लिया है
लेकिन यह भी क्या कम है सुन्दर लगता है।
मेरे लाल गलीचे पर
घूमा करता है।

घूम घूम कर मेरे बहुत उदास दिनों में
एकाकीपन का एहसास
हरा करता है।

पूर्णिमा वर्मन

Check Also

सारे जहां से अच्छा - मुहम्मद इक़बाल

सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा: मुहम्मद इक़बाल

This great poem was written by Allama Muhammad Iqbal, a great poet-philosopher and active political …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *