Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » भीग रहा है गाँव: अखिलेश कुमार सिंह
भीग रहा है गाँव - अखिलेश कुमार सिंह

भीग रहा है गाँव: अखिलेश कुमार सिंह

मुखिया के टपरे हरियाये
बनवारी के घाव
सावन की झांसी में गुमसुम
भीग रहा है गाँव

धन्नो के टोले का तो
हर छप्पर छलनी है
सब की सब रातें अब तो
आँखों में कटनी हैं
चुवने घर में कहीं नहीं
खटिया भर सूखी ठाँव

निंदियारी आँखें लेकर
खेतों में जाना है
रोपाई करते करते भी
कजली गाना है
कीचड़ में ही चलते चलते
सड़ जाएंगे पाँव

अखिलेश कुमार सिंह

Check Also

सारे जहां से अच्छा - मुहम्मद इक़बाल

सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा: मुहम्मद इक़बाल

This great poem was written by Allama Muhammad Iqbal, a great poet-philosopher and active political …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *