बंदर जी - भूखे बन्दर पर हिंदी बाल-कविता

बंदर जी – भूखे बंदर पर हिंदी बाल-कविता

देख कूदते बंदर जी को
इस डाली से उस डाली,
हंसते शोर मचाकर बच्चे
पीटे ताली पे ताली।

लगता है बंदर मामा जी
आज बड़े ही भूखे हैं,
उतरा-उतरा सा चेहरा है
होंठ भी इनके सूखे हैं।

तभी एक बच्चे को देखा
मामा ने केला खाते,
दौड़े उसके पास पहुंच गए
फिर मुस्कराते-मुस्कराते।

बच्चे ने फिर उनको जी भर
केला खूब खिलाया,
बंदर जी का पेट भरा और
मन बहुत हर्षाया।

~ आम्रपाली जाधव

आपको आम्रपाली जाधव जी की यह बाल-कविता “बन्दर जी” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

Why we worship Mother Goddess on Navratri?

Why we worship Mother Goddess on Navratri?

We think this energy is only a form of the Divine Mother, who is the …

2 comments

  1. This site is a perfect sort of encyclopaedia for each and everthing I require.
    Their updates and articles are fabulous ??

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *