Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » Bal Kavita on Homemade Pickles अचार
Bal Kavita on Homemade Pickles अचार

Bal Kavita on Homemade Pickles अचार

भोजन का स्वाद बढ़ाता अचार,
मुँह में पानी ले आता अचार।

बूढ़े- बच्चे सब को भाता अचार,
घर में बनाया जाता अचार।

बना बनाया भी आता अचार,
कई चीज़ो का बनता अचार।

आम, मिर्च, आंवला, निंबू, गाजर,
शलगम, कटहल का बनता अचार।

कई मसालों के पड़ने से चटपटा,
स्वादिष्ट तीखा बन पाता अचार।

आचार- चटनी अधिक न खाना,
गला भी पकड़ लेता है अचार।

~ अोम प्रकाश बजाज

आपको अोम प्रकाश बजाज जी की यह बाल कविता “अचार” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

Batla House: 2019 Hindi Action Thriller Film

Batla House Movie: 2019 Hindi Action Thriller

Movie Name: Batla House Movie Directed by: Nikhil Advani Starring: John Abraham, Mrunal Thakur Genre: Action, …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *