Baal Gopal

बाल गोपाल – राम प्रसाद शर्मा

खेलें आँगन बाल गोपाल,
नाचें-कूदें गलबहियां डाल।

तरह-तरह के साज बजाएं,
देशप्रेम के गीत गाएं।

झगड़ा-टंटा करे न भाई,
मन में इनके हो सच्चाई।

खेल-खेल में धूम मचाएं,
एक स्वर से गाना गाएं।

आँखों के बन जाएँ तारें,
तब तो होंगे पो वारे।

कहे ‘प्रसाद’ देखो खेल,
कैसे बढ़ता इनका मेल।

∼ राम प्रसाद शर्मा

Check Also

Population Explosion - English Poetry about Population

Population Explosion: Poetry On Over Population

In biology or human geography, population growth is the increase in the number of individuals …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *