Kabuliwala - Rabindranath Tagore Classic English Short Story

ऐ मेरे प्यारे वतन, ऐ मेरे बिछड़े चमन: सलिल चौधरी

ऐ मेरे प्यारे वतन, ऐ मेरे बिछड़े चमन, तुझ पे दिल कुर्बान
तू ही मेरी आरजू, तू ही मेरी आबरू, तू ही मेरी जान

तेरे दामन से जो आये उन हवाओं को सलाम
चूम लूँ मैं उस ज़ुबां को जिसपे आये तेरा नाम
सब से प्यारी सुबह तेरी, सब से रंगीं तेरी शाम

माँ का दिल बनके कभी सीने से लग जाता है तू
और कभी नन्ही सी बेटी बनके याद आता है तू
जितना याद आता है मुझको उतना तड़पाता है तू

छोड़कर तेरी ज़मीन को दूर आ पहुचे हैं हम
फिर भी है यही तमन्ना तेरे जर्रों की कसम
हम जहाँ पैदा हुये उस जगह ही निकले दम

सलिल चौधरी

गीतकार:
गायक: मन्ना डे
संगीतकार: सलिल चौधरी
चित्रपट: काबुलीवाला (1961)

आपको “सलिल चौधरी” जी का यह गीत “ऐ मेरे प्यारे वतन, ऐ मेरे बिछडे चमन” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

Dussehra Greetings

Dussehra Greetings for Students And Children

Dussehra Greetings for Students And Children: In the months of Ashwin and Kartik, Hindus observe …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *