आ रही रवि की सवारी - हरिवंश राय बच्चन

आ रही रवि की सवारी – हरिवंश राय बच्चन

नव-किरण का रथ सजा है,
कलि-कुसुम से पथ सजा है,
बादलों-से अनुचरों ने स्‍वर्ण की पोशाक धारी।
आ रही रवि की सवारी।

विहग, बंदी और चारण,
गा रही है कीर्ति-गायन,
छोड़कर मैदान भागी, तारकों की फ़ौज सारी।
आ रही रवि की सवारी।

चाहता, उछलूँ विजय कह,
पर ठिठकता देखकर यह-
रात का राजा खड़ा है, राह में बनकर भिखारी।
आ रही रवि की सवारी।

∼ हरिवंश राय बच्चन

Check Also

NY Times Square not to beam Lord Ram’s image

NY Times Square not to beam Lord Ram’s image

NASDAQ billboard at NYC’s Times Square not to beam Lord Ram’s image after petitions by …

One comment

  1. How can i get permission to use this poem in our grade 6 textbook?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *