Ek Thi Begum: MX Player Crime Drama Series

Ek Thi Begum: MX Player Crime Drama Series

TV Web Series Name: Ek Thi Begum
Directed by: Sachin Darekar
Starring: Anuja Sathe, Ankit Mohan, Abhijeet Chavan, Santosh Juvekar, Vijay Nikam, Chinmay Deepak Mandlekar, Rajendra Shisatkar, Ajay Gehi
Genre: CrimeDramaThriller
Release Date: 8 April 2020 (Season 1 – 15 Episodes)
Rating:  
Original Network: MX Player

Inspired by true events – ‘Ek Thi Begum’, is the untold revenge story of Ashraf a.k.a Sapna.

Ek Thi Begum is an Indian web series which is written and directed by Sachin Darekar. This web series is being released on mx player on 8 April 2020. 14 episodes long this series starring Anuja Sathe, Ajay Gehi and Ankit Mohan in pivotal role.

Set in the 1980s in Mumbai, This is an underworld saga revolving around the character of Begum (Anuja Sathe). Her life changed when the city’s biggest don Maqsood (Ajay Gehi) turned responsible for the death of her husband Zaheer (Ankit Mohan).

Watch Ek Thi Begum First Episode Online on MX Player! Zaheer Bhatkar is a member of the Maqsood gang and operates in Bombay while Maqsood operates the gang from Dubai. One fine day, Zaheer finds himself in a shootout situation in which Raghu Mhatre ends up dead at the hands of Zaheer. Raghu Mhatre was also a member of the Maqsood gang and Nana Mhatre’s brother. After Raghu ends up dead, Zaheer ends up on the wrong side of both the gangs, Maqsood and Nana Mhatre. With Zaheer and Ashraf’s life in danger, what will be Zaheer’s next step? How will he save his and his wife’s life? Watch Ek Thi Begum Marathi web series first episode online on MX Player and see what kind of danger befalls on Zaheer and his family.

Ek Thi Begum: MX Player Crime Drama Series Trailer

Ek Thi Begum: Review

अब भी फिल्में और वेब सीरीज देखने वाले तमाम लोगों को लगता है कि डाटा बेस इकट्ठा करने वाली वेबसाइट आईएमडीबी की रेटिंग मायने रखती है। हकीकत ये है कि अगर आपके संपर्क में सिर्फ हजार लोग ऐसे हैं जिनके अमेजन प्राइम पर घर का सामान खरीदने का एकाउंट है तो आप अच्छी से अच्छी फिल्मों की रेटिंग की बैंड इस वेबसाइट पर बजा सकते हैं। जैसा कि पिछले दिनों दीपिका पादुकोण ने अपनी फिल्म छपाक को लेकर खुलेआम कहा भी। दीपिका का जिक्र यहां इसलिए क्योंकि लाइमलाइट से गायब हो चुके निर्देशक विशाल भारद्वाज ने कभी दीपिका को लेकर ही सपना दीदी नाम की एक फिल्म बनाने की बात कही थी। वो सपना दीदी जिसने दुबई जाकर दाऊद को मारने का सपना देखा।

एक थी बेगम उसी सपना की कहानी है। एक अच्छी कहानी मिलना और उस पर एक अच्छी वेबसीरीज या फिल्म बनाना दो अलग अलग बातें हैं। पहली बात तो ये कि एक थी बेगम हिंदी में बनी नहीं है, हिंदी में डब की गई है। ये सीरीज मूलत: मराठी में बनी और लॉकडाउन में पब्लिक को बुद्धू बनाने के लिए हिंदी में डब करके रिलीज कर दी गई लेकिन ये जो पब्लिक है वो सब जानती है। ऐसा नहीं कि सीरीज बिल्कुल ही देखने लायक नहीं है। पूरी कहानी को कम एपीसोड में कहने की कोशिश की जाती तो ये साल की बेहतरीन कहानी हो सकती थी। इस कहानी के बस छह या ज्यादा से ज्यादा सात एपीसोड की ही तासीर है। 14 एपीसोड तो दर्शकों पर ज्यादती है।

कहानी सिंपल सी है। दाऊद टाइप के दुबई में बैठे अपराधी मकसूद का एक चेला मुंबई में हीरोइन का कारोबार फैलाना चाहता है। जहीर नाम का दादा इसके खिलाफ है। मकसूद के लोकल चेले नाना से उसका पंगा होता है। पहले नाना का भाई मारा जाता है और फिर जहीर। जहीर की बीवी अशरफ इसका बदला लेने का फैसला करती है। उसको सही ठहराया जा सके इसलिए पहले उसे कानूनी लड़ाई लड़ते और फिर खुद कानून बन जाते दिखाया जाता है। कहानी शुरू यहीं से होती है, बाद में कहानी फ्लैशबैक में घूमती फिरती फिर वापस वहीं आती है।

इतनी दमदार कहानी पर एमएक्स प्लेयर चाहता तो एक सुपरहिट वेब सीरीज बना सकता था। लेकिन, बताते हैं कि एमएक्स प्लेयर में इतने ज्ञानी लोग हैं कि खुद जाकर डायरेक्टर को लोकेशन पर निर्देशन सिखाने लगते हैं। इनकी सीरीज बनाने वाले निर्देशक गरीब की गाय की तरह हां में हां मिलाते रहते हैं और नतीजा दर्शकों को भुगतना होता है। ओटीटी चूंकि फ्री में सीरीज दिखाने का दम भरता है लिहाजा कहीं भी कभी भी यूट्यूब की माफिक ब्रेक भी झेलना होता है। सीरीज की सबसे बड़ी कमजोरी इसका निर्देशन ही है। और निर्देशक की कमजोरी ये है कि उसे एपीसोड डिवीजन का ज्ञान नहीं है, कहानी को कैसे आगे बढ़ाना है इसका भान नहीं है और अपनी बात कलाकारों से मनवा सके इतना मान नहीं है।

तो कलाकार यहां कैमरा ऑन होते ही अपने हिसाब से एंगल लेते दिखते हैं। मकसूद बने अजय गेही को दाऊद जैसा दिखने का गुमान इतना है कि वह खुद को वंस अपॉन ए टाइम मुंबई का इमरान हाशमी समझने लगते हैं। नाना बने राजेंद्र ओवरएक्टिंग का शिकार हुए हैं और पुलिस इंस्पेक्टर तावड़े बने अभिजीत चव्हाण का मेलोड्रामा भी थोड़ा ज्यादा हो गया है। पूरी सीरीज में बस दो ही कलाकार जमते हैं एक तो जहीर के रोल में अंकित मोहन और दूसरी बेगम के रोल में अनुजा साठे। अनुजा साठे को यही सीरीज हिंदी सिनेमा के कलाकारों के साथ मिलने का मौका मिला होता तो बात कुछ और ही होती। उन्होंने अपनी तरफ से पूरा जोर लगाया लेकिन साथ में हैया कहने वाले कमजोर निकले। वेब सीरीज एक थी बेगम को अमर उजाला रिव्यू में मिलते हैं दो स्टार।

Check Also

Breathe: Into the Shadows Amazon TV Series

Breathe: Into the Shadows Amazon TV Series

TV Web Series Name: Breathe: Into the Shadows Directed by: Mayank Sharma Starring: Abhishek Bachchan, …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *