मुम्बई के मशहूर पान वाले - Mumbai's Most Popular Betel Shops

मुम्बई के मशहूर पान वाले – Mumbai’s Most Popular Betel Shops

मुच्छड़ पान वाला (ब्रीच कैंडी) मूल रूप से इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश से

कई साल पहले इलाहाबाद के श्याम चरण तिवारी ने मुम्बई पहुंच कर एक जगह छोटी-सी पान की दुकान लगाई। आज वही मुम्बई की मशहूर मुच्छड़ शॉप स्थित है। उनके चार बेटे हैं और आगे उसके 11 बच्चे हैं। वे सभी 200 वर्ग फुट के मकान में सयुंक्त परिवार में रहते हैं। परिवार में सभी पुरुषों ने मूंछे रखी है और इसे अपना खानदानी व्यवसाय मानते हैं। अपनी मूंछो की वजह से ही उन्हें मुच्छड़ के नाम से जाना जाता है। उनका मघई मीठा पान बेहद स्वादिष्ट माना जाता है, हालांकि वे अपने मुच्छड़ चॉकलेट पान के लिए ज्यादा मशहूर हैं। बॉलीवुड के सितारे जैकी श्रॉफ बचपन से उनके यहां आते रहे हैं।

जानिए पान को: उत्तर प्रदेश में गूंजीय पान लोकप्रिय है तो महाराष्ट्र में करंजी और गुजरात में घूघरा पान मशहूर है।

यामू पंचायत

20 वर्ष पहले स्थापित यह देश का प्रथम पान पार्लर है। इनके पान मुहं में डालते ही घुल जाते हैं। ये इसलिए भी खास हैं कि इन्हें थूकना नहीं पड़ता है इनमे सुपारी भी नहीं होती है। ये इस तरह तैयार किए जाते हैं की आपके होंठ भी लाल नहीं होते।

मिश्रा पान भंडार: (जुहू भिच के सामने) मूल रूप से भदोही से

तुलसी दास को अपने चाचा आर. आर. मिश्रा से पान बनाने के गुर मिले। आज कई सैलीब्रिटीज उनके ग्राहकों में शामिल हैं उनका कलकत्ता मीठा पान बहुत मशहूर है।

त्रिवेणी पान भंडार: (बोरीवली) मूल रूप से भदोही, उत्तर प्रदेश से 

यहां त्रिवेणी स्पेशल पान खूब पसंद किया जाता है जो करंजी के आकार में होता है जिसके साथ ड्राई फ्रूट मसाला होता है।

मामा पान वाला: (किंग्स सर्कल) मूल रूप से पाली, राजस्थान से

मुम्बई यूनिवर्सिटी से इलैक्ट्रोनिक्स इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने वाले दिनेश टाक के पिता पान वाले थे जो वर्षो पहले अपने भांजे के साथ मुम्बई आए। भांजा हमेशा उन्हें ‘मामा’ पुकारता और उनका यही नाम ग्राहकों के मुंह पर चढ़ गया और वह ‘मामा पान वाला’ के नाम से लोकप्रिय हो गए। पिता की तरह दिनेश भी मानते है कि पान में पाचन गुण होते हैं। पिता की दुकान सम्भालने से पहले उन्होंने 5 साल आई.टी. कम्पनी में काम किया परंतु अब उन्हें पान बनाना ही ज्यादा रास आता है।

Ghanta Wala Pan Mandir

घंटा वाला पान मंदिर: (बोरीवली) मूल रूप से भदोही से

विनोद कुमार तिवारी मुम्बई में घन्टावाला के नाम से मशहूर हो गए क्योंकि वह बड़े शिव भक्त है। रोज सबसे पहले वही घंटी बजा कर भगवान शिव को पान अर्पित करते है। यह विश्व की एकमात्र पान की दूकान है जिसका नाम गिनीज बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में दर्ज है। उनके पक्के ग्राहक उनके लिए सालों से दुनिया भर से लाई घंटियां उपहार में दे चुके हैं। इस वक्त करीब 169 देशों की ४५० से ज्यादा घंटियां उनकी दूकान में प्रदर्शित हैं। इसी वजह से किसी दूकान में सबसे ज्यादा घंटियां होने का गिनीज रिकॉर्ड उनके नाम हो गया।

Check Also

Sutradhar: Ratul Chakraborty - A collection of stories

Sutradhar: Ratul Chakraborty’s Book Review

Book Name: Sutradhar Author: Ratul Chakraborty Publisher: Pages: 280 pages Price: $ 16.99 Sutradhar is …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *