Home » Games & Sports In India » तानी: बेघर शरणार्थी बना अमेरिकी स्टेट शतरंज चैम्पियन
तानी: बेघर शरणार्थी बना अमेरिकी स्टेट शतरंज चैम्पियन

तानी: बेघर शरणार्थी बना अमेरिकी स्टेट शतरंज चैम्पियन

नाइजीरिया में जब बोको हराम आतंकवादियों ने ईसाई लोगों पर हमले शुरू किए तो 8 वर्षीय तानी के परिवार ने वहां से निकलना ही बेहतर समझा। परिवार ने अमरीका में शरण ली और 2017 में न्यूयार्क आकर रहने लगे। तानी (पूरा नाम Tani Adewumi) के पिता गुजारे के लिए किराए पर टैक्सी चलाते हैं परंतु तानी ने साबित कर दिया है हौसले बुलंद हों तो कठिन से कठिन परिस्थियों में भी सफलता हासिल की जा सकती है।

इन दिनों तानी दुनिया भर में छाया हुआ है क्योंकि उनसे न्यूयार्क स्टेट चैस चैम्पियनशिप जीत ली है।

एक साल पहले ही सीखी शतरंज:

न्यूयार्क के एक शैल्टर होम में रहने वाले तानी ने न्यूयार्क स्टेट चैम्पियनशिप के अपने वर्ग में विजय प्राप्त करने के लिए कई बड़े-बड़े स्कूलों व प्राइवेट स्कूलों के बच्चों को चैस में हराया है। सबसे बड़ी बात है कि उसके चैस खेलना करीब 1 साल पहले ही सिखा है और अपने खेल में तेजी से ऐसा सुधार किया कि इतने कम वक्त में इस नन्हे ख़िलाड़ी के पास 7 ट्रॉफी हैं।

न्यूयार्क आने के बाद तानी के परिवार को एक स्थानीय शैल्टर होम में रहने के लिए जगह मिल गई थी जिसके बाद तानी स्थानीय एलीमैंट्री स्कूल में पढने लगा। स्कूल में एक पार्टटाइम चैस टीचर भी था जिन्होंने उसे शतरंज खेलना सिखाया।

जल्द ही तानी को शतरंज अच्छा लगने लगा उसने अपनी मां से कहना शुरू किया कि वह चैस क्लब से जुड़ना चाहता है।

उसकी मां ओलुवातोयिन एदेवूमी ने चैस क्लब को ई-मेल किया कि वह भी तानी को चैस सिखने के लिए भेजना चाहती हैं लेकिन वह शैल्टर होम में रहती हैं और उनके पास इतने पैसे नहीं हैं कि वह फीस भर सकें।

स्कूल के चैस प्रोग्राम की देख-रेख करने वाले रसेल मकोफ्सकी ने फीस माफ करने का फैसला किया और तानी के सपनों जैसे नए पंख लग गए।

तेजी से बढ़ी चैस रेटिंग:

करीब एक साल पहले अपनी पहली शतरंज प्रतियोगिता में हिस्सा लिया और तब उसकी रेटिंग सभी प्रतियोगियों में सबसे कम 105 थी।

आज उसकी रेटिंग 1587 है जो तेजी से बढ़ रही है। बता दें कि विश्व से सबसे बेहतरीन वर्तमान शतरंज ख़िलाड़ी मैग्नस कार्लसन की रेटिंग 2845 है।

आक्रमक शतरंज खेलता है तानी:

तानी के शतरंज खेलने का तरीका बेहद आक्रमक है जिसने स्टेट चैम्पियनशिप के कोचों को हैरान किया है। एक मैच में यह देख वे दंग रह गए कि तानी ने प्यादे के लिए अपने वीर को मर जाने दिया। उसी वक्त उन्होंने एक कम्प्यूटर में इस चाल को भरा तो कम्प्यूटर ने तानी की इस चल से सहमति जताते हुए बताया कि कुछ चाल चलने के बाद मैच में इससे तानी की पॉजिशन मजबूत हो जाएगी।

2019 U.S. Chess Championships: Tanitoluwa “Tani” Adewumi Interview

आसान नहीं था यह सफर:

हालांकि, यहां तक का उसका सफर बेहद कठिन रहा है लेकिन हार नहीं मानने का जज्बा और कड़ी मेहनत के दम पर उसने यह उपलब्धि हासिल की है।

उसके पिता बताते हैं कि एक बार वह स्कूल से रोते हुए घर लौटा क्योंकि उसके सहपाठी उसे बेघर-बार कर चिढ़ाते थे।

फिलहाल अमेरिका में शरण के लिए तानी के परिवार का आवेदन काफी वक्त से लम्बित है जिसकी अगली सुनवाई अगस्त में होनी है। तानी के पिता कयोदे एडेवुमी नाइजीरिया से भागने के फैसले पर कहते हैं कि वह किसी भी अपने को खोना नहीं चाहते थे। उनके अनुसार नाइजीरिया में शतरंज में तानी की महारत शायद ही कभी उभर कर सामने आ पाती।

बनना चाहता है सबसे कम उम्र का ग्रैंडमास्टर:

अब तानी का सारा ध्यान शतरंज पर है। शैल्टर होम के फर्श पर बैठ कर तथा लेट कर हर शाम वह घंटो शतरंज का अभ्यास करता है। मई में होने वाली एलीमैंट्री नैशनल चैम्पियनशिप की तैयारी कर रहा तानी कहता है कि उसकी अभिलाषा सबसे कम उम्र का ग्रैंडमास्टर बनने की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *