Home » Poems For Kids » Poems In Hindi

Poems In Hindi

बच्चों की हिन्दी कविताएं — 4to40 का हिन्दी कविताओ का संग्रह | Hindi Poems for Kids — A collection of Hindi poems for children. पढ़िए कुछ मजेदार, चुलबुली, नन्ही और बड़ी हिंदी कविताएँ. इस संग्रह में आप को बच्चो और बड़ो के लिए ढेर सारी कविताएँ मिलेंगी.

होगा तभी दशहरा: विजय दशमी पर हिंदी कविता

होगा तभी दशहरा (विजय दशमी) - प्रकाश मनु

दशहरा के त्यौहार पर हिंदी कविता – होगा तभी दशहरा किस्सा एक पुराना बच्चों, लंका में था रावण, राजा एक महा-अभिमानी, काँपता जिससे कण-कण। उस अभिमानी रावण ने था, सबको खूब सताया, रामचन्द्र जब आये वन में, सीता को हर लाया। झिलमिल झिलमिल सोने की, लंका पैरो पे झुकती, और काल की गति भी भाई, उसके आगे रूकती। सुन्दर थी लंका, लंका …

Read More »

आ गया पावन दशहरा: दशहरा पर हिंदी कविता

Inspirational Hindi Poem about Dussehra आ गया पावन दशहरा (विजय दशमी)

आ गया पावन दशहरा फिर हमे सन्देश देने आ गया पावन दशहरा। तुम संकटों का हो घनेरा हो न आकुल मन ये तेरा संकटो के तम छटेंगे होगा फिर सुन्दर सवेरा धैर्य का तू ले सहारा। द्वेष कितना भी हो गहरा हो न कलुषित मन ये तेरा फिर ये टूटे दिल मिलेंगे होगा जब प्रेमी चितेरा बन शमी का पात …

Read More »

जय सरस्वती माता: सरस्वती माँ की आरती

Saraswati: Hindu Goddess

Goddess Saraswati: The name Saraswati came from “saras” (meaning “flow”) and “wati” (meaning “she who has …”), i.e. “she who has flow” or can mean sara meaning “essence” and swa meaning “self”. So, Saraswati is symbol of knowledge; its flow (or growth) is like a river and knowledge is supremely alluring, like a beautiful woman. She is depicted as beautiful …

Read More »

चलो बुलावा आया है माता ने बुलाया है: नरेन्द्र चंचल

Narendra Chanchal Jai Mata Di Bhajan चलो भुलावा आया है माता ने बुलाया है

Avtaar is a 1983 film starring Rajesh Khanna and Shabana Azmi. It was directed by Mohan Kumar, and the music was by Laxmikant Pyarelal. Rajesh Khanna did achieve success from Amardeep and Prem Bandhan onwards, but this was Rajesh Khanna’s biggest hit film in terms of box office collections after his bad phase from 1976 to 1978. Avtaar was a …

Read More »

अरे जा रे हट नटखट: फिल्म नवरंग से लोकप्रिय होली गीत

अरे जा रे हट नटखट - नवरंग

चि: धागिन धिनक धिन धागिन धिनक धिन धागिन धिनक धिन अटक-अटक झटपट पनघट पर चटक मटक इक नार नवेली गोरी गोरी ग्वालन की छोरी चली चोरी चोरी मुख मोरी मोरी मुसकाये अलबेली कँकरी गले में मारी कंकरी कन्हैया ने पकरी बाँह और की अटखेली भरी पिचकारी मारी स र र र र र र र र र भोली पनिहारी बोली …

Read More »

विद्यालय मैगजीन से हिंदी बाल-कविताएँ

गुरु: प्रभलीन कौर गुरु अनहद का नाद है, गुरु बोध का स्वाद है। गुरु शरणागत की शक्ति है, गुरु स्नेह की पवित्र धारा है।। गुरु बेसहारों का सहारा है, गुरु अनंत कृपाओं का सागर है। गुरु अनुभव की छलकती गागर है, गुरु नवजीवन की भोर है।। गुरु प्रेम की सुंदर डोर है, गुरु सत्य का सुखद स्पर्श है। गुरुदेव है, …

Read More »

मेरा रंग दे बसंती चोला: प्रेम धवन का देश-भक्ति गीत

मेरा रंग दे बसंती चोला - प्रेम धवन

‘रंग दे बसंती चोला’ अत्यंत लोकप्रिय देश-भक्ति गीत है। यह गीत किसने रचा? इसके बारे में बहुत से लोगों की जिज्ञासा है और वे समय-समय पर यह प्रश्न पूछते रहते हैं। ‘यह गीत किसने लिखा?’ इसका उत्तर जानने के लिए हमें इसका इतिहास खंगालना होगा। इस गीत के दो संस्करण है। जिस गीत से अधिकतर लोग परिचित हैं वह गीत 1965 की …

Read More »

तू ना रोना, के तू है भगत सिंह की माँ: प्रेम धवन

तू ना रोना, के तू है भगत सिंह की माँ - प्रेम धवन

भारत के वीर पुत्र भगत सिंह – जिसने अपना पूरा जीवन देश को समर्पित कर दिया। 27 सितम्बर 1907 को जिसका जन्म हुआ और मात्र 24 वर्ष की कोमल आयु में जिसे केवल इसलिए फांसी पे चढ़ा दिया गया क्युकि वो भारत माँ से बहुत प्रेम करता था, किसी को प्रेम की इतनी बड़ी सज़ा? वो माँ का क्या हाल …

Read More »

प्रेरक हिंदी कविता: कोशिश करने वालों की हार नहीं होती

प्रेरक हिंदी कविता: कोशिश करने वालों की हार नहीं होती

कई लोग इस रचना को हरिवंशराय बच्चन जी द्वारा रचित मानते हैं। लेकिन श्री अमिताभ बच्चन ने अपनी एक फ़ेसबुक पोस्ट में स्पष्ट किया है कि यह रचना सोहनलाल द्विवेदी जी की है। कोशिश करने वालों की हार नहीं होती: सोहनलाल द्विवेदी जी की प्रेरक हिंदी कविता लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती कोशिश करने वालों की हार …

Read More »

हिंदी दिवस Short Poem on Hindi Divas

हिंदी दिवस Short Poem on Hindi Divas

हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाया जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इस दिन भारत की संविधान सभा ने देवनागरी लिपि में लिखी गई हिंदू भाषा को भारत गणराज्य की आधिकारिक भाषा घोषित किया था। भारत की संविधान सभा ने 14 सितंबर 1949 को भारत गणराज्य की आधिकारिक भाषा के रूप में हिंदी को अपनाया। हालांकि इसे 26 …

Read More »