Home » Poems For Kids

Poems For Kids

Poetry for children: Our large assortment of poems for children include evergreen classics as well as new poems on a variety of themes. You will find original juvenile poetry about trees, animals, parties, school, friendship and many more subjects. We have short poems, long poems, funny poems, inspirational poems, poems about environment, poems you can recite

Eid-Ul-Fitr: Eid Poetry For Students And Children

Eid-Ul-Fitr – Obaid Ahmed

Eid al-Fitr is an important religious holiday celebrated by Muslims worldwide that marks the end of Ramadan, the Islamic holy month of fasting. Now that we fasted and did extra good deeds, We celebrate Eid-ul-Fitr, one of the two Eids! Allah prescribed two Eids and forbid all other festivals, He told us to worship Him and try to get the …

Read More »

रमजान का महिना: रमजान के रोजों पर हिंदी कविता

Ramadan Month Hindi Poem रमजान का महिना

मुस्‍लिम समुदाय का पवित्र महीना रमजान शुरू हो गया है। आज चांद दिखाई दे गया है। कल पहला रोजा रखा जाएगा। रमजान की तैयारियां घरों में चल रही हैं। बाजार में लोग रोजा इफ्तार और सहरी के लिए खरीदारी कर रहे हैं। इस महीने में भगवान की दी हर नेमत के लिए अल्लाह का शुक्र अदा किया जाता है। महीने के बाद शव्वाल की पहली …

Read More »

माँ की ममता: मातृ दिवस पर हिंदी कविताएँ

माँ की ममता - Mother's Day Special Hindi Bal Kavita

माँ की ममता जब मैं छोटी बच्ची थी, माँ की प्यारी दुलारी थी, माँ तो हमको दूध पिलाती, माँ भी कितनी भोली-भाली। माखन-मिश्री घोल खिलाती, बड़े मज़े से गोद में सुलाती, माँ तो कितनी अच्छी है, साड़ी दुनिया उसमें है। ∼ सुप्रीता झा

Read More »

मेरी माँ: प्रभगुन सिंह Short Hindi Poem on Mother

मेरी माँ - प्रभगुन सिंह - Short Hindi Poem on Mother

माँ से मैंने हँसना सीखा, माँ से गाना गाना। माँ से सीखा गिरकर उठना, आगे बढ़ते जाना। माँ ने अक्षर-ज्ञान कराया, मुझको पहली बार, जग से प्यारी, सबसे न्यारी, मेरी प्यारी-प्यारी माँ। इसलिए तो मैं करता हूँ। अपनी माँ से प्यार। ~ प्रभगुन सिंह (एल.के.जी.) St. Gregorios School, Sector 11, Dwarka, New Delhi – 110075

Read More »

माँ: ओम व्यास ओम Mothers Day Special Hindi Poem

माँ - ओम व्यास ओम

माँ संवेदना है, भावना है, अहसास है माँ, माँ जीवन के फूलों में खुशबू का वास है माँ। माँ रोते हुए बच्चे का खुशनुमा पलना है माँ, माँ मरूथल में नदी या मीठा सा झरना है माँ। माँ लोरी है, गीत है, प्यारी सी थाप है माँ, माँ पूजा की थाली है, मंत्रों का जाप है माँ। माँ आँखों का सिसकता हुआ किनारा …

Read More »

Moms: Mothers Day Special Poem

Moms - Mother's Day Special Poem

Where would we be without Moms? Where would we be without those ladies? Helping us all year long And the love you give is just amazing. Growing up Getting up Feeling good each day Is easy to do. Helping hands Understand Showing us the way We tip our hats to you. Oh, oh, Moms, Moms, where would we be? Oh …

Read More »

Mom A Shining Star: Mothers Day Special Poem

Mom - A Shining Star - Mother's Day Special Poem

Mom you are a shining star though the world doesn’t know your name. You have no fancy title like Baroness or Dame. Mom you really are a star, my mother mentor and friend. A Nobel Prize for motherhood is what I’d recommend. And if I won the lottery I’d share my win with you. I’d take you Mom on a …

Read More »

माँ तो माँ होती है Mother’s Day Hindi Poem

माँ तो माँ होती है - ओम प्रकाश बजाज

मम्मी – अम्मी – अम्मा – माता – माम्, कुछ भी बुलाओ माँ तो माँ होती है। अपने बच्चों पर जान देती है, उनके लिए हर कष्ट सहती है। अपनी कोख से जन्म देती है, उन पर वारी – वारी जाती है। पाल पोस कर बड़ा करती है, गीले में सो कर सूखे में सुलाती है। माँ का आदर सदा …

Read More »

मेरी प्यारी माँ: Mother’s Day Special Bal Kavita

मेरी प्यारी माँ तू कितनी प्यारी है

मेरी प्यारी माँ तू कितनी प्यारी है जग है अंधियारा तू उजियारी है शहद से मीठी हैं तेरी बातें आशीष तेरा जैसे हो बरसातें डांट तेरी है मिर्ची से तीखी तुझ बिन ज़िंदगी है कुछ फीकी तेरी आंखो में छलकते प्यार के आंसू अब मैं तुझसे मिलने को भी तरसूं माँ होती है भोरी भारी सबसे सुन्दर प्यारी प्यारी

Read More »

माँ: दिल छू जाने वाली हिंदी कविता

माँ - दिल छू जाने वाली हिंदी कविता

मै तेरा गुनेहगार हूँ माँ मै तुझे भूल गया उन झूठे रिश्तो के लिए जो मैंने बाहर निभाए उन झूठे नातो के लिए जो मेरे काम ना आये मै तेरा गुनेहगार हूँ माँ बॉस के कुत्ते को कई बार डॉक्टर को दिखाना पड़ा पुचकार कर उसे खुद अपना हाथ भी कटवाना पड़ा पर तेरा चश्मा न बनवा पाया तुझे दवा …

Read More »